जावद भोजनशाला से रोज 250 जरूरतमंद हो रहे लाभान्वित

राजसमंद (राव दिलीप सिंह)। कोरोना महामारी के बीच लॉकडाउन के चलते जररूतमंदों की मदद के लिए जावद में भोजनशाला नियमित रूप से संचालित है। हाल ही खाद्य सुरक्षा योजना में कई परिवारों को गेहूं आदि की सुविधा प्राप्त होने के बाद अब वंचित रहे करीब 250 लोगों को यहां से एक समय तैयार भोजन पहुंचाया जा रहा है।
भोजनशाला के मुख्य समन्वयक व नगर परिषद सभापति सुरेश पालीवाल ने बताया कि बीते डेढ़ माह से यह भोजनशाला संचालित है तथा प्रारम्भ में यहां से प्रतिदिन करीब 550 जरूरतमंदों को दोनों समय भोजन मुहैया कराया गया और इसके बाद गत दिनों में इनमें से कई परिवारों को सरकारी योजना में गेहूं, दाल आदि सामग्री एवं कुछ परिवारों को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं में सहायता राशि मिलना देखते हुए अब इनमें से लाभान्वित होने से वंचित रहे लोगों को एक समय भोजन मुहैया कराया जा रहा है। इस कार्य में नगर परिषद सभापति सुरेश पालीवाल, तुलसीराम पालीवाल, दिलीप, महेश पालीवाल, राजेश, नरेश पालीवाल, दिनेश पालीवाल, रमेश पालीवाल, लोकेश, दुर्गाशंकर, राजाबाबू, नारायण पालीवाल, रमेश लोहार, मोतीलाल कुमावत, राजू पालीवाल, रणजीत पालीवाल, अशोक, योगेश, अजय, तरूण, मोहन पालीवाल, लक्ष्मीनारायण पालीवाल, नितेश, हंसमुख, नानालाल, पवन राजपूत, बंटी राजपूत आदि कार्यकर्ता जुटे हैं।
कफ्र्यू में भी जरूरतमंदों को पहुंचाया भोजन
सभापति पालीवाल ने बताया कि सरकारी व स्थानिय जनप्रतिनिधियों की मदद मिलने के अलावा भी भामाशाहों के सहयोग से कई परिवारों को आटा आदि सूखी सामग्री प्रदान की गई। यह सब देखते हुए भोजनशाला से वर्तमान में करीब ढाई सौ लोगों को यहां से रोजाना शाम को तैयार भोजन पहुंचाया जा रहा है। इनमें मेहता मगरी, छात्रावास एवं जावद के आसपास रहने वाले जरूरतमंदों के अलावा भीलवाड़ा रोड़ बांडियानाला के समीप निवासरत परिवार शामिल है। कुछ चिन्हित अन्य जरूरतमंद लोग भी इससे जुड़े है जिन्हें राहत दी जा रही है। भोजनशाला में कार्यकर्ता स्वयं भोजन बनाने एवं पैकेट बनाने के साथ ही जरूरतमंदों तक पहुंचा रहे है। विशेष बात यह है कि गत दिनों सिद्धार्थ नगर में कोरोना पॉजीटिव मरीज मिलने पर आसपास के क्षेत्र में कफ्र्यू लगने के बावजूद जरूरतमंदों को भोजन पहुंचाया गया ताकि उन्हें कोई तकलीफ  न हो।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना