कफ्र्यू रहेगा या नहीं, फैसला कल, लॉक डाउन में भी नहीं निकल सकेंगे घरों से बाहर

 
भीलवाड़ा हलचल। कोरोना वायरस के चलते भीलवाड़ा रेड जोन से तो ऑरेंज जॉन में आ गया, लेकिन यहां के बाशिंदों को ज्यादा उत्साहित होने की जरुरत नहीं है। अभी कफ्र्यू जारी भी रह सकता है और कफ्र्यू हटा तो भी लॉक डाउन में लोग घरों से बाहर नहीं निकल पायेंगे। प्रशासन कफ्र्यू जारी रखने पर विचार कर रहा है और कल इस पर कोई निर्णय लिया जायेगा। अगर कफ्र्यू हटता है तो शहर को दो भागों में बांट कर पास के जरिये लोगों को कुछ सुविधायें दी जा सकती है। 
सूत्रों के अनुसार, भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से काबू करने के लिए अभी कुछ और समय लगेगा। बाहर से आने वाले लोगों के आने वाले लोगों से और यहां सोशल डिस्टेंस बनी रहे ताकि कम्यूनिटी में संक्रमण न फैले, इसे लेकर प्रशासन कफ्र्यू की अवधि बढ़ाने पर मंथन कर रहा है। इस संबंध में पुलिस, चिकित्सा और अन्य लोगों के विचार भी लिये जा रहे हैं। 
देशभर में 17 मई तक लॉक डाउन की घोषणा हो चुकी है और भीलवाड़ा में भी लॉक डाउन तो रहेगा ही। अगर यहां से कफ्र्यू हटा लिया जाता है तो लोगों को अब तक जो सुविधायें मिल रही है उसमें कमी आयेगी। अब तक लोगों के घर तक पहुंच रही खाद्य सामग्री, फल-फू्रट और सब्जी के लिए अलग से व्यवस्था होगी। शहर को पटरी के दोनों और विभाजित कर लोगों को पास के जरिये दिन में तीन बजे तक सामान खरीदने की छूट मिल सकेंगी, लेकिन उन्हें सोशल डिस्टेंस मेंटेंन करनी होगी। मास्क लगाना होगा और कोई भी व्यक्ति बिना मास्क घर से बाहर नहीं निकल सकेगा। शहर के इन दो हिस्सों में एक-एक दिन पास के जरिये छूट दी जा सकेंगी। 
ऑरेंज जॉन में आने के बाद लोगों को यह उम्मीद थी कि तीन मई के बाद वे सड़कों पर आ-जा सकेंगे, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हो सकेगा। लॉक डाउन में भी लोग 5 से ज्यादा एक साथ जमा नहीं हो सकेंगे और न ही घरों से निकल सकेंगे। धर्मस्थल पहले की तरह ही बंद रहेंगे। सार्वजनिक कार्यक्रम पर प्रतिबंध रहेगा। अगर घर से बाहर निकलते हैं तो बाइक पर एक व्यक्ति और कार में दो व्यक्ति ही पास के जरिये आ-जा सकेंगे।


 


  


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना