मैं मजदूर हूँ,अपनी किस्मत से मजबूर हूँ*

मैं मजदूर हूँ, अपनी किस्मत से मजबूर हूँ ।


कंधों पर परिवार का बोझ लिए, साकार करने बच्चों के सपनों को चाहता हूँ, सूरज की अग्नि में तपने


रात दिन मजदूरी करने 


फटे पुराने कपड़ों में सूट का सुख पा लिया 


स्वाभिमान से दो वक्त की रोटी कमाने का लक्ष्य बना लिया 


संघर्षों से तनाव से लड़ा हूँ लेकिन फिर भी अपने  कर्म में लीन हूँ, 


यह खुला आसमान है छत मेरी,यह वसुंधरा मेरा बिछोना है ,घास फूस की झोपड़ी बनाई 


नहीं तो रहता हूं अपने परिवार के साथ यही है मेरे सपनों का महल


गुजर रहा है सपनों के अभाव में 


बहुत कांटे बिछे है मेरी राहों में 


मगर मैं चेहरे पर मुस्कुराहट रखकर जीता हूं,आंसुओं के घूंट पीकर 


क्योंकि मैं मजदूर हूँ, ईश्वर की आंखों से दूर हूँ !!


- पूनम उपाध्याय,बापूनगर


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना