फिर से फल-फूलने लगा है नाबालिग लड़कियों से देह का धंधा, पुलिस मौन

  जहाजपुर देवेन्द्र सिंह राणावत/ जहाजपुर उपखंड इलाके में एक बार फिर नाबालिग लड़कियों से देह व्यापार कराने के मामले सामने आ रहे हैं। पुलिस की खामौशी से यह कारोबार एक बार फिर फल-फूलने लगा है। जाति विशेष के लोग दूसरे राज्यों की लड़कियों को काम दिलाने का लालच देकर यहां लातेहैं, जिन्हें बाद में यहां इस अवैध धंधे में झौंक दिया जाता है। इतना ही नहीं, विरोध करने पर इन बेबस लड़कियों से मारपीट कर उन्हें यातनायें तक दी जाती है।  कभी-कभार पुलिस सख्ती बरतती है तो कुछ दिन इस काम को बंद कर दिया जाता है, लेकिन कुछ दिन बाद स्थितियां पुन: वैसी ही नजर आने लगती है। 
देशभर में वेश्यावृत्ति एक बहुत बड़ी समस्यां हैं।  जिस्मफरोशी के इस धंधे में हर साल हजारों लड़कियां एंट्री करती हैं।  एक बात तो तय हैं कि इस धंधे में कोई भी अपनी मर्जी से नहीं आता हैं।  किसी को जबरदस्ती इसमें धकेला जाता हैं तो कोई पैसो की जरूरत के चलते ये काम करने पर मजबूर हो जाता हैं।  आपको जान हैरानी होगी कि एक कलयुगी पिता अपनी बेटी को वेश्यावृत्ति के धंधे में धकेला चाहता है।  यह मामला तब उजागर हुआ जब एक महिला ने अपने पति पर  बेटी को बेचने का आरोप लगाया।  अपनी 9 साल की बेटी को धंधा करने से रोकने और बचाने के लिए मां को पुलिस एवं ग्रामीणों की सहायता लेनी पड़ीं। हाईवे सहित कई इलाकों में पुलिस से नजर चुरा कर वेश्यावृत्ति का धंधा कई इलाकों में चल रहा है।  इस धंधे में अब नाबालिग लड़कियों को लाया जा रहा है । वेश्यावृत्ति या जिस्मफरोशी एक किस्म का कारोबार होता है जिसमें पैसों के लिए शारीरिक रिश्ते बनाए जाते हैं। लेकिन यह गैरकानूनी व्यापार होता है इसमें कोई भी अपनी मनमर्जी के साथ व्यापार करना पसंद नहीं करती है।। आपकों बता दें कि कुछ समय पूर्व इलाके में इस तरह के अवैध धंधे में लिप्त बड़े गिरोह का राजफाश हुआ था और यह मामला देशभर में उछला था। लेकिन इसके बाद इस धंधे पर पुलिस की नजर दूबारा नहीं पड़ी तो यह कारोबार फिर से इलाके में फलने-फूलने लगा है। 
इस मामले में डीएसपी जहाजपुर देशराज गुर्जर का कहना है कि बहुत जल्द ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जायेगी।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना