राज्यों में फिर तनातनी, पुलिस आमने-सामने , कहां जाएं मजदूर

प्रदेश में जहां राज्य सरकारों के बीच प्रवासी मजदूरों को लेकर तनातनी का माहौल दिखाई दे रहा है। तो वहीं इसी के साथ अब बॉर्डर पर भी इसे लेकर तनाव साफ तौर पर देखा जा सकता है। रविवार को इसी से जुड़ी घटना राजस्थान - यूपी बॉर्डर पर देखने को मिली। दरअसल बताया जा रहा है कि राजस्थान से बिहार व झारखण्ड के मजदूर पलायन कर पैदल जा रहे थे, जो विगत दिन उत्तर प्रदेश की सीमा पर राजस्थान बॉर्डर पर भरतपुर जा पहुंचे थे जहां उत्तर प्रदेश पुलिस ने उनको वहीं राजस्थान सीमा में ही रोक दिया था। इसके बाद राजस्थान और यूपी पुलिस के बीच बॉर्डर पर तनाव की स्थिति देखी गई हैं। बताया जा रहा है कि प्रवासी मजदूरों को लेकर यूपी पुलिस ने राजस्थान पुलिस के अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार किया, इसके बाद दोनों तरफ से तनाव बढता हुआ दिखाई दिया। मामले को आगे बढ़ते देख आला अधिकारियों ने दखल दिया, इसके बाद समझाइश कर मामले को शांत किया गया है।
 
मजदूर बैठे धरने पर
बताया जा रहा है कि राजस्थान और यूपी पुलिस के बीच तनाव होने के बाद मजदूरों की दिक्कतें बढ़ गई। लिहाजा मजदूरों ने भी वहां बॉर्डर पर धरना दे दिया है। लेकिन मामले को शांत करने के लिए आला अधिकारियों ने इसका हल निकलवाया है। बताया जा रहा है कि पलायन करने वाले मजदूरों के बॉर्डर पर धरना देकर बैठने व यूपी द्वारा सीमा में घुसने नहीं देने के विवाद के बाद दोनों राज्यों के अधिकारियो की ओर से वार्ता हुई, जिसमे निर्णय हुआ कि राज्य सरकारें व केंद्र सरकार फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके राज्यों में भेजने के लिए ट्रेन की व्यवस्था करेगी। इसके बाद ही इन मजदूरों को यहां से भेजा जा सकेगा तब तक ये लोग भरतपुर सीमा में ही रहकर खाना खाएंगे। फिलहाल मजदूर भरतपुर की रारह बॉर्डर पर हैं।
 
राजस्थान पुलिस ने लगाया अनुशासनहीनता का आरोप
प्राप्त जानकारी के अनुसार राजस्थान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि यूपी पुलिस ने मजदूरों को उत्तर प्रदेश की सीमा में जाने की अनुमति नहीं दी। साथ ही यूपी प्रशासन के अधिकारियों पर भी राजस्थान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने उनके रैवये पर पर एतराज जताया है। उन्होंने इस दौरान उत्तर प्रदेश पुलिस को अनुशासन में रहने व सरकारों के निर्देशों के पालन करते हुए कार्य करने की समझाइश की। भरतपुर के जिला कलेक्टर नथमल डिडेल व जिला पुलिस अधीक्षक हैदर अली जैदी के अनुसार राजस्थान में मजदूरी करने वाले बिहार व झारखण्ड के मजदूर राजस्थान से होते हुए उत्तर प्रदेश सीमा से होकर अपने राज्यों की ओर जा रहे थे , मगर यूपी सरकार ने उनको अनुमति नहीं दी, जिससे ये लोग यहीं बैठे हुए हैं | इस दरमियान बॉर्डर पर थोड़ा तनाव भी पैदा हो गया था , अब इन मजदूरों को ट्रेनों से बिहार व झारखण्ड भेजने के लिए राज्य व केंद्र सरकार विचार विमर्श कर निर्णय लेगी, , जिसके बाद आगे का निर्णय लिया जाएगा।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना