ट्रंप को 'झुठला' कर बोला WHO- चीनी लैब से नहीं आया वायरस, बल्कि...

कोविड-19 को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का दावा है कि चीन स्थित वुहान शहर के लैब से ही कोरोना वायरस आया है, जो फिलहाल दुनियाभर में तबाही मचा रहा है। मगर डोनाल्ड ट्रंप के इस दावे के बिलकुल विपरीत विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्लूयएचओ के डॉक्टरों का मानना है कि कोरोना वायरस प्राकृतिक रूप से पैदा हुआ है, न कि चीनी लैब से। 


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के प्रयोगशाला में बनाये जाने के सिद्धांतों को खारिज कर दिया और कहा है कि वह इसके स्रोत का पता लगायेगा ताकि दुबारा यह जानवरों से इंसानों में न आ सके। इस वायरस के कारण दुनिया भर में फैली महामारी 'कोविड-19' पर शुक्रवार को डब्ल्यूएचओ की नियमित प्रेस वार्ता में अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपदा समिति की रिपोर्ट जारी की गई। 


लैब से फैलने की बात का किया खंडन- समिति ने कोरोना वायरस के स्रोत का पता लगाने की सिफारिश की है। इस संबंध में पूछे जाने पर डब्ल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपदा कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइकल जे. रेयान ने कहा कि समिति की इस सिफारिश पर अमल किया जायेगा। हालांकि, उन्होंने कुछ वैज्ञानिकों के वायरस के प्रयोगशाला में बने होने के सिद्धांत को खारिज करते हुए कहा कि यह वायरस प्राकृतिक है।


डब्लूएचओ ने की चीन की तारीफ- उन्होंने कहा कि इस अध्ययन का उद्देश्य जन स्वास्थ्य के अनिवार्य उपाय करना है ताकि ऐसा दुबारा कहीं भी न हो सके। उन्होंने बताया कि डब्ल्यूएचओ इस पर काम कर रहा है और स्थानीय प्रशासन को इस अध्ययन में पूरा समर्थन देगा। वहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन में वुहान के अस्पतालों में कोरोना वायरस के किसी मरीज के भर्ती न रहने संबंधी खबरों का स्वागत किया और इस महामारी से निपटने में यहां के लोगों के अथक प्रयासों की सराहना की।


चीन को शुरू से संदेह की नजर से देख रहा अमेरिका- अमेरिका ने हाल के दिनों में कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन से सवाल किए हैं और बुधवार को अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी इस बात पर खेद व्यक्त किया था कि वायरस की उत्पत्ति के अध्ययन के लिये अंतरराष्ट्रीय समुदाय को वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी तक नहीं जाने दिया गया है। पोम्पियो ने कहा कि चीन में कई प्रयोगशालाएं संक्रामक रोगजनकों पर काम कर रही हैं और यह स्पष्ट नहीं है कि भविष्य में महामारियों की रोकथाम के लिए आवश्यक स्तर पर सुरक्षा मानकों का पालन किया जा रहा है या नहीं।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना