सात लाख इक्यावन हजार दीपको से आज कार्तिक पूर्णिमा पर जगमगायेगा घोड़ास का गोविन्द सरोवर, अंतिम तैयारियां जौरो पर


बागोर :- (विष्णु विवेक शर्मा) बागोर क्षेत्र स्थित डाँग के हनुमान मंदिर घोड़ास में कार्तिक मॉस की शुरुआत पर 31 अक्टूम्बर शरद पूर्णिमा से ही अखण्ड रामनाम धूनी के साथ प्रारम्भ हुई थी । जिसकी कार्तिक पुर्णिमा पर आज पूर्णिमा के दिन गोविन्द सरोवर तट पर 7 लाख 51 हजार दीपको से भव्य दीपदान के बाद ठाकुर जी को लगने वाले छप्पनभोग की झाँकी की महाआरती के साथ ही पूर्णाहुति भी होंगी । जिसकी अंतिम तैयारीयां  जौरो से पूरी की जा रही  हैं। 
डाँग के हनुमान मंदिर घोड़ास के ब्रम्हलीन महंत गोविंददास जी महाराज की स्मृति में यहां निर्मित गोविंद सरोवर व उसके किनारे पर प्रतिवर्ष 3 लाख दीपो से भव्य दीपदान का आयोजन किया जाता रहा है । 
डाँग का हनुमान मंदिर घोड़ास व चारभुजा चम्पाबाग करेड़ा के महंत सरजुदास महाराज के शिष्य विश्रामदास महाराज ने बताया कि महंत सरजुदास महाराज के सानिध्य में आयोजित होने वाले 16 वें इस कार्तिक महोत्सव को बड़े ही धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ यहां बने "गोविंद सरोवर तट पर भारत की नई अयोध्या धाम" नाम से प्रसिद्ध स्थान पर "देव दिवाली" कार्तिक महोत्सव को भव्य रूप से मनाया जाएगा । इससे पूर्व कार्यक्रम में कार्तिक मास के आरंभ होने के साथ ही गोविन्द सरोवर किनारे बनी 31 कुटियाओं में अखंड राम नाम जाप का आयोजन 31 गांवों से आये भक्तो द्वारा नियमित किया जा रहा है । वही समाधि स्थल पर भी विगत एक माह से अखंड रामायण पाठ का आयोजन भी किया जा रहा है । जिनकी पूर्णाहुति भी आज सांयकालीन गौधूलिक वैला की महाआरती के पश्चात होगी ।


-गोविन्द सरोवर किनारे अखण्ड रामनाम सीताराम नाम का जाप जारी ।
-----------------------------
डाँग के हनुमान मंदिर घोड़ास में गोविन्द सरोवर के किनारे पर बनी 31 कुटियाओं में आस पास के 31 गाँवों से आये भक्तो द्वारा 31 अक्टूम्बर से अखण्ड रामनाम की धूनी का जाप किया जा रहा है । वही ब्रम्हलीन महंत गोविन्ददास जी महाराज की समाधि पर भी कार्तिक मॉस की शुरुआत से ही रामायण पाठ का आयोजन भी किया जा रहा है । पूर्व में यहां 11कुटियाएँ ही थी मगर रामधुनी बोलने वाले भक्तो की भीड़ को देखते हुए गोविंद सरोवर किनारे अब स्थाई और अस्थाई कुटियाये मिलाकर कुल 31 कुटियाओ में रामधुनी जाप किये जा रहे है। जिससे मंदिर परिषर सहित सम्पूर्ण घोड़ास नगरी रामनाम सीताराम के नाम से गुंजायमान हो रही है ।


इस बार संत समागम नही होगा ।
-----------------------------
महंत सरजुदास महाराज ने बताया की वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते इस बार के 16वें  कार्तिक पूर्णिमा महोत्सव पर घोड़ास स्थित गोविंद सरोवर पर संत समागम नही होगा ।
जबकि आस पास के गांवो से भक्तजन दीपदान करने पहुँचेंगे ।


-ड्रोन से होगी गोविंद सरोवर पर 1 क्विंटल गुलाब के फूलों से  पुष्पवर्षा।
-----------------------------
कार्तिक मास की पूर्णाहुति को यादगार बनाने के लिए आज  कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर ड्रोन से गुलाब के फूलों की पंखुड़ियों से पुष्पवर्षा की जाएगी । इसके लिए एक क्विंटल गुलाब के फूलों की पंखुड़ियां मंगवाई गई हैं । जबकि गोविंद सरोवर पर होने वाले दीपदान के कार्यक्रम को भी ड्रोन द्वारा कवरेज किया जाएगा।



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना