सरकार का ऐलान प्रदेश के 12 जिलों में एक से 31 दिसंबर तक नाइट कफ्र्यू


जयपुर. कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते मामलों को देखते हुए राजस्‍थान सरकार ने 1 से 31 दिसंबर तक कोटा, जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, नागौर, पाली, टोंक, सीकर और गंगानगर के शहरी क्षेत्रों में रात 8 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू का ऐलान किया है. शाम को 7:00 बजे तक बाजार, कार्यस्थल और वाणिज्यिक परिसर बंद करने का आदेश जारी किया गया है. इसके साथ ही 31 दिसंबर 2020 तक कंटेनमेंट जोन में लॉकडाउन लागू रहेगा. केवल आवश्यक गतिविधियों की ही अनुमति दी जाएगी. सरकार द्वारा कठित टीमों द्वारा घर-घर निगरानी की जाएगी.

राजस्‍थान सरकार के आदेश के अनुसार, राज्‍य में स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान 31 दिसंबर तक छात्रों के लिए बंद रहेंगे. सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्स और इस तरह के भीड़ भाड़ वाले स्‍थान बंद रहेंगे. सामाजिक, राजनीतिक, खेल, सांस्कृतिक, धार्मिक कार्य और बड़े आयोजन 31 दिसंबर तक नहीं होंगे.

राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमित 18 और लोगों की मौत
राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के रविवार को 2,581 नये मामले सामने आये है. इससे अब तक राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 2,65,386 हो गई है. अधिकारियों ने बताया कि रविवार की शाम छह बजे तक के बीते 24 घंटों में राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से 18 और मरीजों की मौत हुई हैं जिससे मरने वालों की संख्या अब बढ़कर 2,292 हो गयी.

उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण से अब तक जयपुर में 430, जोधपुर में 234, अजमेर में 184, बीकानेर में 161, कोटा में 135, भरतपुर में 104, उदयपुर में 93, और पाली में 89 संक्रमितों की मौत हो चुकी हैं. उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक कुल 2,34,336 लोग कोरोना वायरस संक्रमण से ठीक हो चुके हैं. इसके साथ ही रविवार को संक्रमण के 2,581 नये मामले सामने आने से राज्य में इस घातक वायरस से संक्रमितों की अब तक की कुल संख्या 2,65,386 हो गयी जिनमें से 28,758 रोगी उपचाराधीन हैं. नये मामलों में जयपुर में 555, जोधपुर में 395, कोटा में 211, अजमेर में 164, अलवर में 126, उदयपुर में 101, गंगानगर में 100, भरतपुर में 99, नागौर में 98 नये संक्रमित शामिल हैं.



टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना