मौत के 16 साल बाद युवक का पुनर्जन्म :3 साल पहले हुआ जन्म, ट्रैक्टर ने कुचला था

 

 

झालावाड़ /

भले ही आज का विज्ञान पुनर्जन्म की बातों को नहीं मानता है, पर जीवन शैली में कभी-कभी कुछ अनसुलझे रहस्य मिलते हैं। जिन पर न चाहते हुए भी विश्वास करना भी पड़ता है। ऐसी ही एक पुनर्जन्म की घटना मनोहर थाना क्षेत्र के खजूरी गांव से उस समय सामने आई, जब यहां के एक परिवार का 3 साल के मोहित अपना नाम तोरण बताने लगा और उसकी मौत का कारण भी बताने लगा। परिवार के सदस्यों ने इसकी पड़ताल की और पूर्वजन्म के माता-पिता सहित रिश्तेदारों से उसे मिलाया तो परिवार के साथ ही क्षेत्र के लोगों में भी बच्चे का पुनर्जन्म की घटना कौतुहल का विषय बन गयी है।


मोहित जन्म से ही ट्रैक्टर की आवाज सुनकर डरता था और रोने लग जाता था।

मोहित के पिता औंकार लाल मेहर ने बताया कि मोहित जन्म से ही ट्रैक्टर की आवाज सुनकर डरता था और रोने लग जाता था। उस समय वह बोल नहीं पाता था। जब वह बोलने लगा, तो अपना नाम तोरण बताने लगा। मामले की पड़ताल की गई तो पता चला कि आज से लगभग 16 साल पहले मनोहर थाना क्षेत्र के ही कोलूखेड़ी कला में रोड निर्माण काम में मजदूरी करने गए 25 साल के तोरण पुत्र कल्याण सिंह धाकड़ निवासी खजूरी की ट्रैक्टर के नीचे दबने से मौत हो गई थी। जिसके बाद उसके माता-पिता मकान बेचकर मध्यप्रदेश के जामनेर थाना क्षेत्र के शंकरपुरा गांव में रहने चले गए थे। तोरण की एक बुआ नथिया बाई धाकड़ खजूरी में ही रहती है। सूचना पर जब वह मिलने पहुंची, तो तोरण ने उसे पहचान लिया। इसके बाद उसके पूर्वजन्म के माता-पिता को सूचना दी गई और जब वह भी आए तो 3 साल के बच्चे ने उन्हें भी पहचान लिया। बच्चा मोहित जो अपना ना तोरण बताता है अपनी मौत की घटना के बारे में भी जानता है।

पूर्व जन्म के पिता कल्याण सिंह धाकड़ ने बताया कि उनके बेटे की मौत के बाद अभी तीन साल पहले ही श्री गयाजी में उसका विधि-विधान से तर्पण किया था। सूचना मिलने पर खजूरी में आकर मोहित से मिले तो उसने पहचान लिया। उससे मिलकर लगा जैसे हादसे में जान गंवा चुका उसका बेटा तोरण फिर से लौट आया हो। मोहित से उसका नाम पूछने पर वह खुद को तोरण ही बताता है। बुआ नथिया बाई धाकड़ ने बताया कि वह खजूरी में ही रहती है। पूर्वजन्म में भी तोरण बहुत लगाव रखता था और अब भी वह जब उससे मिलने जाती है, तो वह उनकी गोदी में आकर बैठ जाता है। बहरहाल विज्ञान की चुनौतियों के बीच पुनर्जन्म की घटना झालावाड़ जिले में चर्चा का विषय बनी हुई है।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

झालावाड़ मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर कृष्ण मुरारी लोधा का कहना है कि इंसान की मौत के बाद ब्रेन डेड हो जाता है। उसकी मेमोरी पूरी तरह खत्म हो जाती है। नया शरीर नए मस्तिष्क के साथ बनता है। मेमोरी कभी भी एक शरीर से दूसरे में ट्रांसफर नहीं हो सकती। बच्चे ने अपने परिजनों या कुछ लोगों को इस संबंध में बातें करते सुना होगा और दिमाग में इस तरह की स्टोरी क्रिएट कर ली। विज्ञान के युग में पुनर्जन्म जैसी बातें बेमानी है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

शराब के नशे में महिला सहित 4 लोगों ने किया तमाशा वीडियो वायरल

आदर्श तापड़िया मर्डर: परिजनों से समझाइश का दूसरा दौर शुरू

मांडल में विवादित कुर्क जमीन मामले को लेकर जुटी भीड़, पुलिस ने लाठियां भांज कर दो किलोमीटर तक खदेड़ा,बाजार बंद

हत्या पर हंगामा, देवा गुर्जर के समर्थकों ने फूंकी बस, मॉर्चरी के बाहर बरसाए पत्थर