साध्वी ऋतम्भरा के आश्रम की 4 छात्राएं डूबीं: ओंकारेश्वर में नर्मदा नहर में बच्ची का पैर फिसला, बचाने में 3 सहेलियों की भी मौत

 


खंडवा। ओंकारेश्वर के कोठी गांव में नहर में नहाते समय 4 बच्चियां डूब गईं। 5वीं क्लास में पढ़ने वाली बच्चियां खरगोन-बड़वानी के आदिवासी वन ग्रामों से थीं। कोठी में साध्वी ऋतम्भरा के परमशक्ति पीठ आश्रम में रहकर पढ़ाई करती थीं। बुधवार सुबह 7 बजे 11 बच्चियां आश्रम के पीछे नर्मदा नहर में नहाने के लिए निकलीं। 5 लौटकर आश्रम चली गईं। 6 में से एक का पैर फिसला तो वह नहर में गिर पड़ी, जिसे बचाने बाकी की पांचों सहेलियों ने छलांग लगा दी। इन 5 बच्चियों में से 2 तो किनारे पर सुरक्षित लौट आईं, लेकिन 3 बच्चियां और जिस बच्ची का पैर फिसला वो नहीं लौटीं। इन चारों के शव निकाले गए। बच्चियों की उम्र 10 से 11 साल के बीच है।

आश्रम प्रबंधन की लापरवाही
जिस नहर में हादसा हुआ, वह कोठी से गुजरात की तरफ जाने वाली बड़ी नहर है। यहां बगैर सुरक्षा संसाधनों के बच्चियों को नहाने के लिए भेजना आश्रम प्रबंधन की लापरवाही बताता है। यह नहर आश्रम के ठीक पीछे है। नहाने के लिए घाट बना हुआ है। नहर के अंदर तक सीढ़ियां हैं, लेकिन पानी में दबी सीढ़ियों पर काई जमी हुई है। इसी काई में पैर फिसलने से यह हादसा हुआ। ग्रामीणों के अनुसार, यहां रोजाना बच्चियां नहाने आती हैं। आश्रम में सुविधाएं होने के बाद भी उन्हें यहां भेजा जा रहा था।

बच्चियों ने पहली क्लास से लिया था दाखिला
साध्वी ऋतम्भरा के परमशक्ति पीठ आश्रम में बच्चियों को पहली कक्षा से प्रवेश दिया जाता है। नहर में डूबने वाली सभी बच्चियां आश्रम में रहकर पढ़ाई कर रही थीं। हादसे के बाद पूरे गांव में मातम पसर गया। जिन गांवों से बच्चियां यहां पढ़ने आई थी, उनके परिवारवालों में भी अब डर पैदा हो गया है।

इन बच्चियों ने गंवाई जान

  • वैशाली पिता नवलसिंह निवासी ग्राम बड़िया, तहसील-भीकनगांव
  • प्रतिज्ञा पिता छमिया निवासी ग्राम दाभड़ तहसील-सनावद
  • दिव्यांशी पिता चेतन निवासी इंदरपुर रहतिया बड़वानी
  • अंजना पिता रमेश निवासी बमनाला, तहसील- भीकनांव।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना