श्री रामकथा महोत्सव 20 से

 


भीलवाड़ा। मर्यादा पुरूषोत्तम श्रीराम के जीवन से शिक्षाएं देने वाले अमृत संदेशों की गूंज से वस्त्रनगरी भीलवाड़ा नौ दिन 20 से 28 सितम्बर तक धर्मनगरी में परिवर्तित हो जाएगा। हर तरफ जय श्री राम की गूंज होगी। इस दौरान श्रीसंकट मोचन हनुमान मंदिर भीलवाड़ा की ओर से श्री रामकथा महोत्सव समिति भीलवाड़ा के तत्वावधान में नगर परिषद के चित्रकूटधाम प्रांगण में नौ दिवसीय श्री रामकथा महोत्सव का आयोजन होगा। नगर परिषद के चित्रकूटधाम प्रागंण में दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक होने वाले श्री रामकथा महोत्सव में अयोध्या से पधारने वाले ख्यातनाम कथावाचक परम पूज्य प्रेमभूषणजी महाराज के मुखारबिंद से हजारों भक्तों की मौजूदगी में संकट मोचन हनुमानजी महाराज को श्रीराम कथा  का श्रवण कराया जाएगा। इस महाआयोजन को सफल बनाने के लिए श्रीसंकट मोचन हनुमान मंदिर के महंत श्री बाबूगिरीजी महाराज के सानिध्य एवं निर्देशन में तैयारियां निरन्तर चल रही है। श्री रामकथा महोत्सव समिति के अध्यक्ष श्री गजानंद बजाज एवं सरंक्षक सुशील कंदोई के नेतृत्व में सभी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसके लिए विभिन्न समितियां गठित कर विभिन्न कार्यकर्ताओं को अलग-अलग दायित्व सौंपें गए है। समिति के अध्यक्ष गजानन्द बजाज ने बताया कि भीलवाड़ा में पहली बार इतने भव्य स्तर पर रामकथा का आयोजन किया जा रहा है एवं इसे लेकर हर तरफ उत्साह का माहौल बन गया है। श्री रामकथा में सैकड़ो संतों व साधुओं का आर्शीवचन प्राप्त होंगा। समिति के सरंक्षक सुशील कंदोई ने बताया कि कथा आयोजन का उद्देश्य लोगों की सनातन संस्कृति के प्रति भावना मजबूत करने के साथ इसके माध्यम से गौसेवा व निःशुल्क चिकित्सा के प्रति वातावरण का निर्माण करना है। इस आयोजन के माध्यम से वर्तमान माहौल को अधिक सद्भावनायुक्त बनाने का प्रयास भी किया जाएगा। श्रीरामकथा महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर 20 सितम्बर को सुबह 10 बजे से हरिशेवाधाम से पूज्य महामंडेलश्वर महंत हंसारामजी महाराज के सानिध्य में भव्य कलशयात्रा भी निकाली जाएगी। ये मुख्य मार्गो से होते हुए चित्रकूटधाम पहुंच सम्पन्न होगी। कलशयात्रा में अधिकाधिक मातृशक्ति की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए शहर के विभिन्न धार्मिक व सामाजिक संगठन जुटे हुए है। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

डांग के हनुमान मंदि‍र के सरजूदास दुष्‍कर्म के आरोप में गि‍रफ्तार, खाये संदि‍ग्‍ध बीज, आईसीयू में भर्ती

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

एलन कोचिंग की एक और छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

21 जोड़े बने हमसफर, हेलीकॉप्टर से हुई पुष्पवर्षा

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?