बरसनी में बड़ी वारदात का खुलासा , गिरफ्त में 7 बदमाश

 

 भीलवाड़ा बीएचएन। नौ लाख रुपये की नकदी व सोने चांदी चोरी की बरसनी में हुई वारदात का शंभुगढ़ पुलिस ने खुलासा करते हुये सात नकबजनों को गिरफ्तार कर लिया। 
पुलिस के अनुसार, बरसनी निवासी रिषभ पुत्र राजेश जायसववाल ने 22 अगस्त को रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इसमें बताया कि उसके दादा देवीलाल व दादी निर्मला देवी कमरे में सो रहे थे। उनके पास वाले कमरे में सेवा करने वाला विकास रावत सो रहा था। परिवादी बाड़े में बने कमरे में सो रहा था। रात करीब दो बजे चार-पांच बदमाश आये और दादा-दादी के कमरे में घुसे गये और उन्हें धमकाकर तकिये केनीचे सहित अलग-अलग जगहों पर रखे नौ लाख रुपये, चांदी की कनगती, 15 ग्राम सोने का मांदलिया, चुरा लिया। पुलिस ने इस रिपोर्ट पर केस दर्ज कर जांच शुरु की। 
पुलिस अधीक्षक आदर्श सिद्धू ने एएसपी चंचल मिश्रा के निर्देशन, डीएसपी गुलाबपुरा लोकेश मीणा के सुपरविजन व थाना प्रभारी हनुमानाराम की एक टीम गठित की। इस टीम ने अथक साइबर सेल, आसूचना आदि की मदद से संदिग्ध गोविंद खटीक को डिटेन कर पूछताद की तो उसने अपने साथियों के साथ मिलकर 21 अगस्त की रात वारदात करना स्वीकार कर लिया। इसके चलते पुलिस ने कुल सात आरोपितों को गिरफ्तार  लिया। इनसे और भी संपत्ति संबंधित अन्य वारदात खुलने की संभावना है।  
 
 इन बदमाशों ने की थी वारदात, पकड़े गये 
गोविंद पुत्र धर्मीचंद खटीक निवासी बरसनी, विनोद पुत्र श्रवणलाल बारोलिया बालाजी का खेड़ा बरसनी, कयूम मोहम्मद पुत्र बाबुदीन मंसूरी बरसनी, शक्तिसिंह पुत्र शौभाराम नायक अखेगढ़, बदनौर, रतन सिंह पुत्र देवीसिंह रावत जयनगर, थाना बार, राजसमंद, राजेंद्र सिंह उर्फ राजू पुत्र लक्ष्मण सिंह रावत निवासी जयनगर, हरदिल पुत्र नरसिंह रावत निवासी रेणपुरा, मसूदा अजमेर । 

तीन बदमाशों का आना-जाना था घर
थाना प्रभारी हनुमानाराम के अनुसार, आरोपित गोविंद खटीक, विनोद रैगर व कयूम मंसूरी का परिवादी के घर आना-जाना था। ऐसे में उन्हें परिवार की आर्थिक स्थिति की जानकारी थी। इसके चलते वारदात को अंजाम देने के लिए प्लान तैयार किया गया। 

यह थी योजना
आरोपित राजेंद्र सिंह रावत पूर्व में बरसनी गांव में माइंस पर काम करता था। उसको व राजेंद्र के दोस्त शक्तिसिंह को घटना को अंजाम देने व घटना के बाद माल मशरुका को सभी में बराबर-बराबर मांटने का प्लान तैयार किया। राजेंद्र व शक्तिसिंह ने रैकी की। वारदात की रात गोविंद खटीक, विनोद रैगर, कयूम मंसूरी ने घटनास्थल के पास रैकी की व शक्ति सिंह को शंभुगढ़ से बरसनी के बीच पुलिस गाड़ी की रैकी करवाई। 

ये थे पुलिस टीम में
थाना प्रभारी हनुमानाराम, एएसआई रज्जाक मोहम्मद, राकेश कुमार, ओमप्रकाश, नानूराम, सुरेंद्र, महेंद्र, श्रवण कुमार, विक्रम व साइबर टीम में आशीष कुमार, चंद्रपाल सिंह, पिंटू व अंकित यादव।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

देवा गुर्जर की गैंगवार में हत्या, विरोध में रोडवेज बस में लगाई आग !

देवा गुर्जर हत्या का मुख्य आरोपी दुर्गा गुर्जर गिरफ्तार 3 साथी भी पकड़े गए

कन्या हत्याकांड- भीलवाड़ा में साली की हत्या कर भागे जीजा ने एमपी में दी जान, मार कर मरुंगा का एफबी पर लगाया था स्टेटस

छोटे भाई की पत्नी के साथ होटल में रंगरलियां मना रहा था पुलिसकर्मी, सिपाही पत्नी ने पकड़ा और कर दी धुनाई

66वीं राज्य स्तरीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता के सेमीफाइनल मैच कल , राजस्थान का गोल्डमैन व समाजसेवी कन्हैया लाल खटीक आएंगे

प्रोसेस हाउस की बस की टक्कर से ऑटो मोबाइल कंपनी के मैनेजर की मौत

बेटे का आरोप-ब्लैकमेलिंग से परेशान था मोहम्मद रईस, विषाक्त सेवन कर शिकायत देने गया था एसपी ऑफिस