गंगापुर सहकारी समिति में डेढ़ माह के बाद आया यूरिया खाद, किसानों की फसलें हुई चौपट

 


 

 

गंगापुर - गंगापुर क्रय विक्रय सहकारी समिति में 50 दिन बाद भी यूरिया खाद पहुंचा। 50 दिन से किसान यूरिया खाद लेने के लिए चक्कर काट रहे हैं। फसलों को यूरिया खाद देने की आवश्यकता थी। खाद उपलब्ध नहीं हुआ, फसलें चौपट हो गई। किसान परेशान हो रहे है। क्रय विक्रय सहकारी समिति से कोई राहत नहीं मिली।

किसान माधव लाल जाट व रतन लाल सालवी ने बताया कि विगत 50 दिन से गंगापुर क्रय विक्रय सहकारी समिति सहित समूचे सहाड़ा क्षेत्र की ग्राम सेवा सहकारी समितियों में भी यूरिया खाद उपलब्ध नहीं हो रहा है। जहां एक और बरसात रुकने के बाद किसानों ने अपनी फसल की खुदाई कर दी। फसलों में खाद देने का समय निकला गया। फसलें बर्बाद होने हो गई। किसान लगातार 50 दिन से क्रय विक्रय सहकारी समिति व 28 ग्राम सहकारी समिति के चक्कर काट रहे हैं। लेकिन यूरिया खाद उपलब्ध नहीं हो पाया। प्रशासन व क्रय विक्रय सहकारी समिति के पदाधिकारियों को किसानों द्वारा खाद की मांग करने के बावजूद भी खाद समूचे सहाड़ा क्षेत्र में नहीं पहुंचा। जिसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ा। किसान रोजाना चक्कर लगाकर परेशान हो रहे हैं और खाली हाथ लौटना पड़ रहा है। फसलों में खाद देने का समय निकलने के बाद क्षेत्र में यूरिया खाद पहुंचा तो उसका कोई उपयोग नहीं होगा। किसानों ने ओने पौने दाम देकर बाजार से यूरिया खरीदा। दिनांक 20 सितंबर को गंगापुर क्रय विक्रय सहकारी समिति में यूरिया खाद का खेफ पहुंचा। खाद की इंतजार में फसलें भी पक गई। किसान अब फसलों की कटाई की तैयारी कर रहे हैं। अब यूरिया खाद पहुंचा जो किसानों के किसी काम का नहीं है। 

वही क्रय विक्रय सहकारी समिति गंगापुर के कार्यवाहक व्यवस्थापक देवेंद्र सिंह ने बताया कि क्रय विक्रय सहकारी समिति गंगापुर में यूरिया खाद 31 जुलाई को समाप्त हो गया। इससे पूर्व यूरिया खाद मंगवाने के लिए गंगापुर क्रय विक्रय सहकारी समिति से डिमांड भेज दी गई थी। लेकिन यूरिया खाद उपलब्ध नहीं होने के कारण किसानों को नहीं दिया गया। दिनांक 20 सितंबर को खाद पहुंचा है, अब किसानों को दिया जाएगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना