काजीपुरा ग्राम वासियों ने उठाया वृक्षारोपण का बीड़ा

 

 अजमेर BHN.   शहर के फाई सागर क्षेत्र के समीप स्थित काजीपुरा गांव के ग्राम वासियों ने गांव को हरा-भरा करने के लिए वृक्षारोपण का बीड़ा उठाया है। ग्रामवासी रोज ग्राम में वृक्षारोपण कर  पेड़ की देखभाल की जिम्मेदारी ले रहे हैं। 

 

गांव के जागरूक नागरिक कल्याण सिंह रावत ने बताया कि गांव वासियों ने जवाहर फाउंडेशन के सहयोग से  ग्राम पंचायत हाथी खेड़ा के ग्राम काजीपुरा में रोजाना नीम के छायादार पौधे  तगा रहे हैं।

 

 जवाहर फाउंडेशन के प्रभारी शिव कुमार बंसल ने बताया कि ग्राम वासियों ने नीम को नारायण मान के  गांव की हताई पर और स्कूल में पौधे लगाए और देखभाल की जिम्मेदारी ली। 

 

ग्राम वासियों को वृक्षारोपण के फायदे बताते हुए कहा कि नीम के पौधे के फायदे बताएं किसी के एलर्जी फोड़े फुंसी ऐसी बीमारी में नीम के पत्ते दपानी में उबाल के नहलाने से जल्दी ठीक होतें है अभी गायों में चल रही लम्पी स्कीन डिजीज  बीमारी में पानी में नीम की पत्तियां और फिटकरी डालकर पानी को उबालकर  गाय को नहलाने से गाय भी जल्द स्वस्थ होने लगती हैं। नीम के पेड पर्यावरण संरक्षण के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है  !

 

उल्लेखनीय है कि 28 अगस्त को , राजस्थान पर्यटन विभाग निगम के अध्यक्ष धर्मेंद्र राठौड़ ने भैरव घाटी पर जवाहर फाउंडेशन द्वारा 50 पौधें लगाए गए  और  ग्राम वासियों को वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया था।

 

आज हताई व स्कूल में भैरव मंदिर के उपासक भागचंद रावत बुद्धा पटेल, केसा महाराज, छोटू पटेल, भागचंद, युवा टीम अध्यक्ष जय सिंह, जिया, गांव के पंच पटेल एवं ग्रामवासियों  ने वृक्षारोपण किया !

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार