गुंडे को पकडऩे गए एसपी और एसडीओपी पर बदमाश ने चला दी गोली

 


आलीराजपुर झाबुआ. मध्यप्रदेश में पुलिस पर लगातार हमले हो रहे हैं. ऐसी ही एक घटना में एसपी और एसडीओपी जैसे वरिष्ठ अफसरों पर गोली चला दी गई. हालांकि दोनों अधिकारी बाल-बाल बच गए और बदमाश को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। इस गोलीबारी मेें बदमाश भी घायल हो गया है।

सिपाही पर जानलेवा हमला करने वाले गुंडे को पकडऩे गए एसपी मनोज कुमार और एसडीओपी श्रद्धा सोनकर पर शनिवार रात बदमाश ने गोली चला दी- सिपाही गंगाराम पर जानलेवा हमला करने वाले गुंडे को पकडऩे गए एसपी मनोज कुमार और एसडीओपी श्रद्धा सोनकर पर शनिवार रात बदमाश ने गोली चला दी। इसमें वे बाल-बाल बच गए। दूसरी गोली एसडीओपी के वाहन में लगी। पुलिस ने फायर कर बदमाश वीनू उर्फ प्रवीण को गिरफ्तार कर लिया। गोली बदमाश के पैर में लगी।

आरक्षक गंगाराम सोलंकी और आरक्षक नागरसिंह ताजियों की जानकारी लेने असाडपुरा क्षेत्र की ओर जा रहे थे- शनिवार रात कोतवाली आलीराजपुर में पदस्थ आरक्षक गंगाराम सोलंकी और आरक्षक नागरसिंह ताजियों की जानकारी लेने असाडपुरा क्षेत्र की ओर जा रहे थे। इसी दौरान सोरवा नाका तिराहे पर वीनू ने गंगाराम के सिर पर हमला किया।

एसडीओपी, थाना प्रभारी शिवराम तिलोरे और पुलिस बल ने घेराबंदी कर रोकने का प्रयास किया- भागने के दौरान गिरने से वीनू को चोट आई। वह जिला अस्पताल से डराते.धमकाते हुए भाग निकला। उसे पकडऩे घेराबंदी की गई। एसपी भी मौके पर पहुंचे। एसडीओपी, थाना प्रभारी शिवराम तिलोरे और पुलिस बल ने घेराबंदी कर रोकने का प्रयास किया। वीनू ने पहले एसपी फिर एसडीओपी की तरफ फायर किया।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार