माली समाज आरक्षण आंदोलन का रायला से करेगा आगाज

 


भीलवाड़ा । समस्त माली समाज एवं राजस्थान प्रदेश माली (सैनी) महासभा भीलवाड़ा जिले की रायला तहसील के सक्रिय सदस्यों का सम्मेलन 25 सितम्बर, रविवार को दोपहर 2 बजे रायला स्थित आनंद आश्रम परिसर में आयोजित किया जायेगा।
महासभा के जिला कार्यकारी अध्यक्ष भैरूलाल माली ने बताया कि जिला स्तरीय सम्मेलन की अध्यक्षता महासभा के प्रदेश उपाध्यक्ष गोपाल लाल माली करेंगे। सम्मेलन में 12 प्रतिशत आरक्षण सहित 11 सूत्री मांगों को लेकर मंथन किया जायेगा। सम्मेलन में माली समाज के उत्थान के लिए व समाज आरक्षण की मांग को लेकर संघर्ष करता आ रहा है, इसी पर विशेष चर्चा की जायेगी। प्रदेशभर में चलाये जा रहे आरक्षण आंदोलन को लेकर सरकार समाज की मांग पर कोई ध्यान नहीं दे रही है। आजादी के 75 साल बाद भी माली समाज राजनीतिक, सामाजिक व आर्थिक स्तर पर पिछड़ा हुआ है।
महासभा के सक्रिय कार्यकर्ता जीवराज माली व हरदेव माली ने बताया कि इस सम्मेलन को प्रदेश व जिला स्तरीय समाज के कई जनप्रतिनिधि संबोधित करेंगे। इस सम्मेलन में समाज की मुख्य मांगे जैसे सैनी समाज को 12 प्रतिशत आरक्षण, महात्मा फुले कल्याण बोर्ड का गठन हो, थड़ी-ठेले लगाने वाले को स्थाई जगह दी जाये, महात्मा फुले जयंती पर अवकाश घोषित हो, भारतीय सेना में सैनी रेजिमेंट का गठन, सैनी समाज के लिए अलग से एक्ट बनाने समेत कई मांगे की जायेगी। इस सम्मेलन में जिलेभर से तहसील एवं ग्रामीण क्षेत्रों के माली समाज के सक्रिय सदस्य भाग लेंगे। सामाजिक सरोकार के अन्य विषयों पर भी विचार विमर्श किया जायेगा।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार