गाजे-बाजे के साथ नि‍काली बंदर की शवयात्रा

 


रायला । रायला सिक्स लाइन नेशनल हाइवे 48 पर ट्रक की टक्कर से एक बंदर की मौत हो गई। बागर वाला खेड़ा के लोगों ने गाजे-बाजे के साथ बंदर की शवयात्रा  निकाली। वैदिक परम्परा के अनुसार उसका अंतिम संस्कार किया। यह मामला गोयल टाइल्स के पास हुआ।

रायला नेशनल हाइवे पर  एक बंदर की ट्रक की टक्कर से लगने के कारण मौत हो गई। बंदर को हनुमानजी का प्रतिरूप मानकर पशु-पक्षी प्रेमी स्थानीय लोगों ने बंदर का अंतिम संस्कार वैदिक परम्पराओं के अनुसार करने का निर्णय लिया। बंदर के शव को नहलाकर नए वस्त्र पहनाए गए. इसके बाद उसके शव को एक ठेले में रखकर गाजे-बाजे के साथ शवयात्रा निकाली गई। शवयात्रा खेड़े से होती हुई बगीची बालाजी के पास समशान घाट पहुंची। यहां विधि विधान से शव अंतिम संस्कार किया गया।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

शीतलाष्टमी की पूजा आज देर रात से, रंगोत्सव (festival of colors) कल लेकिन फैली है यह अफवाह ...!

मुंडन संस्कार से पहले आई मौत- बेकाबू बोलेरो की टक्कर से पिता-पुत्र की मौत, पत्नी घायल, भादू में शोक

जहाजपुर थाना प्रभारी के पिता ने 2 लाख रुपये लेकर कहा, आप निश्चित होकर ट्रैक्टर चलाओ, मेरा बेटा आपको परेशान नहीं करेगा, शिकायत पर पिता-पुत्र के खिलाफ एसीबी में केस दर्ज