भीलवाड़ा:  कम्यूनिटी इंफेक्शन का बड़ा खतरा, बेपरवाह लोग नहीं आ रहे बाज, अब तक 2 की मौत, 21 पॉजिटिव

  भीलवाड़ा ।  कोरोना वायरस को लेकर हर तरफ दहशत है। वहीं देश भर के विभिन्न प्रदेशों के जिलों की बात करें तो भीलवाड़ा ही एक ऐसा जिला है, जहां कोरोना पॉजिटिव मरिजों की संख्या सबसे ज्यादा है। अब तक यहां 21 लोग पॉजिटिव आ चुके हैं।  भीलवाड़ा में एक दिन पहले दो संक्रमित बुजुर्गों की मौत हो चुकी है। खास बात यह है कि इन दोनों मृतकों के परिवारों के चार सदस्य भी पॉजिटिव हैं।  इससे दहशत काफी हद तक बढ़ गई। अब भीलवाड़ा में कम्यूनिटी इंफेक्शन का सबसे बड़ा खतरा है। वहां स्थिति फेज तीन में पहुंच चुकी है।  इतना ही नहीं भीलवाड़ा देश का पहला एपिक सेंटर है, जिसमें 457 सैंपल में से 21 पॉजिटिव पाए गए। यह औसत में सर्वाधिक है। यहां अब 11 हजार लोग संदिग्ध है। इनमें से 6445 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इनमें से कुछ पर तो पुलिस का पहरा बैठा दिया है, जबकि कुछ पर पहरा बैठाने की तैयारी की जा रही है। 5 अस्पतालों में भी आइसोलेट वार्ड बना दिये गये हैं और एक-एक हजार बैड क्षमता वाले कई और वार्ड बनाने को अंतिम रुप दिया जा चुका है। 
जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट ने  भीलवाड़ा में कम्यूनिटी इंफेक्शन की गंभीरता देखते हुये लोगों से फिर से एक बार घरों में रहने की अपील की है। उन्होंने लोगों की जरुरत की वस्तुयें घर तक पहुंचाने के पुख्ता प्रबंध किये हैं। इसके अलावा कंट्रोल रूम पर भी जरुरत के अनुसार कॉल की जा सकती है। सामाजिक संगठन भी जरुरत मंदों के लिए आगे आये हैं। वहीं चिकित्सा महकमा रात दिन एक कर इस खतरनाक वायरस पर नियंत्रण पाने के लिए जुझ रहा है। सीएमएचओ डॉ. मुश्ताक खान और पीएमओ डॉ. अरुण गौड़ अपनी टीम के साथ देर रात तक मरिजों के उपचार में लगे हैं। बचाव के प्रबंध भी तेज किये गये हैं। पुलिस अधीक्षक हरेंद्र महावर के नेतृत्व में पुलिस अधिकारी व पुलिसकर्मी लोगों को घरों में रखने के हर संभव प्रयास कर रहे हैं, ताकि कम्यूनिटी इंफेक्शन न फैले। जबकि इसकी आशंका बढ़ती जा रही है। 


 77 हजार घरों का फिर होगा सर्वे, कई हाई रिस्क पर 
वस्त्र नगरी में कोरोना संक्रमण का कहर कम नहीं हो रहा है। अभी 11 हजार लोग संदिग्ध हैं। इनमें से 6 हजार 445 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा है।  इस पूरे जिले के कम्यूनिटी इंफेक्शन की जड़ भीलवाड़ा का बृजेश बांगड़ मेमोरिया्रल हॉस्पिटल है। अस्पताल में संक्रमण फैलने का डॉक्टरों को पता चल गया था। फिर भी ओपीडी जारी रखी गई। इससे संक्रमण फैलता गया।  यह कुल 86 बेड का अस्पताल है और उससे ज्यादा मरीज भर्ती करते रहे। इस कारण इंफेक्शन एक से दूसरे में फैलता गया। हालात ऐसे बन गए कि शहर के 77 हजार घरों का तीसरी बार सर्वे करना पड़ रहा है। 650 को आइसोलेशन में लेकर सैंपलिंग की जा रही। 149 मरीज हाई रिस्क पर है। इनमें से 133 विदेश से लौटकर आये थे। 


 चिकित्सा मंत्री बोले- कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने का जिम्मेदार बांगड़ हॉस्पिटल
भीलवाड़ा  । चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा ने भीलवाड़ा में कोरोना वायरस फैलाने का जिम्मेदार बृजेश बांगड़ मेमोरियल हॉस्पिटल को बताया है। उन्होंने एक  निजी टीवी चैनल से बात करते हुये कहा कि भीलवाड़ा को लेकर चिकित्सा महकमा और मुख्यमंत्री गंभीर है। उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा में अब तक करीब 20 लाख लोगों का सर्वे हो चुका है। वहीं 11 हजार लोग संदिग्ध है।  भीलवाड़ा के सीएमएचओ और टीम बहुत मेहनत कर रहे हैं। 332 दल लगा रखे हैं। वहां ही सबसे अधिक कम्यूनिटी स्प्रेड का खतरा है।  



नगर परिषद की ओर से सोडियम हाईपोक्लोराइड का छिड़काव जारी है। पूर्व में शहर के चार वार्डों में छिड़काव किया लेकिन बारिश से बह गया। इसके चलते गुरुवार को फिर से बाकी बचे वार्डों में स्प्रे करवाकर सेनिटाइज कराया गया। इसके साथ कोरोना पॉजीटिव की मौत होने को लेकर एमजी अस्पताल, उसके मकान और आसपास क्षेत्र को फिर से सेनिटाइज करने के लिए छिड़काव किया। सभापति मंजू चेचाणी ने बताया कि शहर में जहां भी कोरोना पॉजीटिव मिले हैं उन कॉलोनियों में सुबह-शाम स्प्रे किया जाएगा।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना