रायला की फैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों के सामने खाने के लाले

मेघरास। रायला क्षेत्र की औद्योगिक इकाइयों में काम करने वाले बाहरी प्रदेशों के सैकड़ों मजदूरों व परिवारों के लिए भूखे मरने की नौबत आ गई है। आज लॉकडाउन के आठवें दिन तक उनके पास एक-दो दिन का ही राशन बचा है, न उनके पास पैसे बचे हैं। न ही खाने पीने का सामान बचा है और वे चाहकर भी अपने घर नहीं लौट सकते हैं। उन्होंने प्रशासन से सहायता मांगी है कि उन्हें राशन उपलब्ध कराया जाए। क्षेत्र के रेलवे स्टेशन खेड़ा, बापू नगर चौराहा, जनता कॉलोनी, इंदिरा कॉलोनी व हाउसिंग बोर्ड में रहने वाले बाहरी मजदूर परिवारों को राशन की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए या उन्हें अपने घर जाने की छूट दी जाए।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना