राजसमन्द-ग्रीष्मकाल में कृषि कार्य के लिए दिशा निर्देश जारी

  राजसमन्द (राव दिलीप सिंह) जिले के  कृषि विज्ञान केंद्र की ओर से किसानों को एडवाइजरी जारी कर दिशा निर्देश दिए है, कि किसान कोविड-19 के लॉकडान के समय में सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए तथा मुंह पर मास्क लगाकर रबी की फसल की कटाई के बाद ग्रीष्म काल में खाली पड़े हुए खेतों को मिट्टी पलटने वाले हल से गहरी जुताई कर दें। जिससे मिट्टी की जल धारण क्षमता बढ़ती रहें तथा खरीफ की फसलों पर कीट व रोगों का प्रकोप भी कम हेागा।


    कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष पी.सी. रेगर ने बताया कि किसान मई-जून में अपने दुधारू पशुओं में परजीवी नाशक एवं टीकाकरण जरूर करवाएं। पशुओं को गर्मी के मौसम में तेज धूप से बचाने के लिए छायादार जगह पर ही रखने तथा स्वच्छ एवं शीतल पेयजल की आपूर्ति अवश्य करें।


    केंद्र के मृदा वैज्ञानिक ड. मनीराम ने बताया कि ग्रीष्मकालीन जुलाई से  कृषि में पैदावार की बढ़ोतरी होती है, तथा उन्होंने किसानों से ज्यादा से ज्यादा मृदा स्वास्थ्य कार्ड बनवाने का आवहन किया। षि कार्य करते समय अपने हाथों को सैनेटाईज करने एवं धोने के बारे में भी बताया।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना