चौकीदार की कुर्सी से गिरने से मौत, लोगों ने लगाया हत्या का आरोप, चार घंटे शव के साथ फैक्ट्री पर प्रदर्शन

भीलवाड़ा हलचल। हमीरगढ़ के निकट एक फैक्ट्री के चौकीदार की संदिग्ध मौत के बाद लोगों ने शव फैक्ट्री के बाहर रखकर हत्या का आरोप लगाते हुए मुआवजे की मांग की है। करीब तीन से चार घंटे चले प्रदर्शन के बाद दोनों पक्षों में समझौता होने पर शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। 
 जानकारी के अनुसार करेड़ा क्षेत्र के थाणा ग्राम का रहने वाला भगवान सिंह गायत्री स्पिनर्स में चौकीदारी का काम करता था। बुधवार रात नाइड ड््यूटी करने के बाद सिंह सुबह घर गये। इसके बाद वे दीपावली के मौके पर बकाया वेतन लेने दुबारा फैक्ट्री पहुंचे। पुलिस का कहना है कि मैनेजर मौजूद नहीं होने से भगवानसिंह कुर्सी पर बैठे इंतजार कर रहे थे, तभी अचानक वे गश खाकर गिर गये। उन्हें अस्पताल ले जाया गया,  जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इसके बाद शव को दुबारा फैक्ट्री ले गये, जहां लोगों ने मृतक आश्रितों को 15 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग फैक्ट्री प्रबंधन से की।  स्थानीय मजदूरों और लोगो का आरोप है कि सिंह के साथ धक्का-मुक्की की गई जिससे उनकी मौत हुई है । करीब तीन से चार घंटे चले प्रदर्शन के दौरान दोनों पक्षों में वार्ता हुई। इसके बाद शव को अस्पताल ले जाया गया, जहां पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। 
 पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम से स्थिति साफ  हो जाएगी कि मृतक के सिर पर चोट लगी है । जो कुर्सी से गिरने की बताई गई है, जबकि लोगों का आरोप है कि उसे लाठी से पीटा गया। पुलिस ने मौत को संदिग्ध मानते हुये जांच शुरू कर दी। पुलिस का यह भी कहना है कि चौकीदार का बेटा लोकेंद्र सिंह भी इसी फैक्ट्री के ऑफिस में कार्यरत है। 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना