भजन ही जीवन का सार, बाकी सब बेकार : दिव्य मोरारी बापू

  भीलवाड़ा हलचल।  श्री राम कथा सेवा समिति के तत्वावधान में 1008 महामंडलेश्वर दिव्य मोरारी बापू के मुखारविंद से रीको तीन नम्बर चौराहे पर स्थित पंचमुखी बालाजी मंदिर में श्रीराम कथा के पांचवे दिन दिव्य मोरारी बापू ने भगवान राम की बाल लीलाओं का वर्णन करते हुए कहा कि तप से इन्द्रियों की, यज्ञ से ब्राह्मण की, दान से धन की, संतोष से मन की, आत्मज्ञान से आत्मा की शुद्धि होती है। भजन ही जीवन का सार है बाकी सब बेकार है। व्यक्ति जन्मजात महान नहीं होता है। माता-पिता, परिवार, समाज व शिक्षण संस्थानों से प्राप्त संस्कारों से महान बनता है। भारतीय संस्कृति में 16 संस्कार होते है। जन्म से पहले संस्कार प्रारम्भ होते है जो मरणोपरांत तक चलते है। ये भारतीय संस्कृति की महिमा है। बच्चों में अच्छे संस्कार आएं हमारा इस पर विशेष जोर होना चाहिए। वकील की भूल फाइलों में, डॉक्टर की भूल शमशान में दब जाती है लेकिन बच्चों में सद्संस्कार नहीं देने की भूल वर्षो बाद भी हमे दिखाई देगी। इसलिए समाज को सावधान होना चाहिए। बच्चे समाज के भविष्य है, उनमे सदसंस्कारों को देने  का विशेष ध्यान रखना चाहिए।  दुनिया का सारा सुख मिलकर भी व्यक्ति को सुखी नहीं कर सकता है। एक भगवान का नाम ही है जो सारे संसार को सुखी कर देता है। कथा के दौरान पेश भजन जन्मे कौशल्या के ललनवा ओ राम बाजे रे... पर श्रद्धालु झूम उठे। माताओं बहनों ने नृत्य कर माहौल को भव्य बना दिया। चारों ओर श्री राम के जयकारे गूंजने लगे।  पंचमुखी बालाजी मन्दिर महंत जमुनादास (लालबाबा)  व पुजारी मुरारी पांडे ने बताया कि कथा में विधायक विट्ठलशंकर अवस्थी, आजाद शर्मा, घनश्याम दास, पवन शर्मा, अशोक चपलोत, शास्त्री कल्याणमल,  गोपीलाल, पचानन गर्ग, मीरा बहन सहित कई गणमान्य जनों ने बापू का अभिनन्दन किया। आयोजन समिति के अशोक बाहेती व भगवती लाल चपलोत ने बताया कि  शीतलासप्तमी पर सोमवार को कथास्थल पर दिव्य मोरारी बापू ने भक्तों के साथ फूलों की होली खेली। इस दौरान पुष्प वर्षा के बीच पेश भजन अवध में खेले राम रघुराई, बाल सखा संग मां के आंगन मैं खेले चारों भाई पर पांडाल में मौजूद हर श्रद्धालु नृत्य में झूम उठा। सुनील बंसल ने बताया कि मंगलवार को कथा में राम सीता विवाहोत्सव होगा।  कथा 20 मार्च तक प्रतिदिन सुबह 11:15 से दोपहर 3:15 बजे तक  होगी। श्रद्धालुओं के कथास्थल जाने व वापिस आने के लिए उपनगर पुर,आज़ाद नगर सांवरिया मन्दिर व बापूनगर गौतम धाम के बाहर बसें लगाई गई । कथास्थल पर  17 मार्च शाम 7:30 बजे साकेत रामायण मण्डल के नवल भारद्वाज एंड पार्टी की ओर से सुन्दरकाण्ड का पाठ होगा। 20 मार्च शाम 4:15 बजे महाप्रसादी रखी जाएगी।  


 


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा