छोड़ दें पानी पीने की ये आदतें, वर्ना शरीर को हो सकता हैं बड़ा नुकसान

पानी शरीर की आम जरूरतों में से एक हैं. ये हमें स्व्स्थ्य रखता हैं साथ-साथ कई गंभीर बिमारियों को दूर रखता हैं. डॉक्टरों की मानें तो इसे पीने के सही तरीके न जानने से शरीर को काफी नुकसान हो सकता हैं. दरअसल पानी पीने का भी सही तरीका होता हैं जो आपको जानना जरूरी हैं. तो आइये जानतें हैं


खड़े होकर नहीं पीएं पानी


खड़े होकर पानी कभी नहीं पीना चाहिए. आपने बड़े-बुजुर्गों से यह बात सुनकर नजरअंदाज जरूर कर दी होगी. लेकिन कभी आपने सोंचा है ऐसा क्यों कहा जाता हैं, दरअसल खड़े होकर पानी पीने से पानी पेट के निचले हिस्से में चला जाता है, जिसके कारण खाना खाने से पोषक तत्व नहीं मिल पाता हैं.


वर्कआउट के बाद जरूर पिएं पानी


अगर आप जिम करने के शौकीन हैं तो आपको वर्कआउट करते समय छोटे-छोटे अंतराल में पानी पीते रहना चाहिए. ज्यादा पानी भूल के भी न पीएं. ऐसा करने से शरीर में पानी की कमी नहीं होती हैं और आपका शरीर हमेशा हाइड्रेट रहता है, जिससे आपको जिम करने में मदद मिलती हैं.


एक सांस में पानी पीना हो सकता हैं घातक


पानी कभी भी एक सांस में नहीं पीना चाहिए. ऐसा करना आपके शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकता है. कोशिश करें छोटे-छोटे सिप में पानी पीने की. आपको बता दें कि धीरे-धीरे पानी पीने से हमारा पाचन तंत्र मजबूत होता हैं और मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है.


खाने से आधे घंटे पहले या खाने के दौरान नहीं पीना चाहिए पानी


अगर आप भरपेट खाना खाने के दौरान ही पानी पी लेतें हैं तो आज ही छोड़ दें ये आदत. क्योंकि इससे आपका पेट पानी से ही भर जाता है और आपको सही पोषण नहीं मिल पाता है. आपके शरीर में जितनी मात्रा में प्रतिदिन केलोरी जाना चाहिए वो नहीं जा पाता ब्लकि पानी से ही आपका पेट भर जाएगा. इससे आपको पाचन संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं. कब्ज-दस्त की समस्या आम हैं. जिसके बाद कुछ भी खाने पर आपको उल्टी होने लगेंगे.


खाली पेट पानी पीएं


सुबह खाली पेट पानी जरूर पीना चाहिए. कोशिश करना चाहिए कि तांबा के बतर्न में ही पानी पीएं. इससे शरीर में मौजूद टॉक्सिन को यह मल-मूत्र के जरीये डिटॉक्स करता हैं. साथ ही साथ शरीर को हाइड्रेट भी करता हैं.


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना