सियासी संकट पर बोले राज्यपाल, हालात पर मेरी नजर

दिल्ली । पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति में उथल-पुथल मच गई है। सिंधिया के पार्टी छोड़ते ही कांग्रेस के अब तक 22 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। इसके बाद कांग्रेस अब बचे हुए विधायकों को मध्य प्रदेश से दूसरे राज्य ले जाने पर विचार कर रही है। वहीं, बीजेपी ने विधायक दल की बैठक के बाद अपने विधायकों को वाया दिल्ली गुरुग्राम शिफ्ट कर दिया। बीजेपी विधायक भोपाल स्थित पार्टी दफ्तर से बस में सवार हुए और फिर विमान से दिल्ली ले जाए गाए। इसके बाद बुधवार तड़के विधायकों को गुरुग्राम के एक होटल ले जाया गया। 


कमलनाथ ने विधायकों के इस्तीफों के बाद भी दावा किया है कि उनकी सरकार को कोई खतरा नहीं है। उन्होंने कहा, 'चिंता की कोई बात नहीं, हम बहुमत साबित करेंगे और सरकार कार्यकाल पूरा करेगी।' कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने बताया है कि बैठक में 94 विधायक पहुंचे और कई विधायक मुख्यमंत्री कमलनाथ के संपर्क में हैं। इन विधायकों को राज्यसभा के नाम पर ले जाया गया था और उनसे दलबल कराया जाएगा, इससे वे अनजान थे। लिहाजा, कांग्रेस के विधायक कांग्रेस व कमल नाथ के साथ हैं। विधानसभा में कांग्रेस बहुमत साबित करेगी।


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना