कब है शीतला अष्टमी, क्यों लगता है बासी खाने का भोग

 

चैत्र मास की कृष्णपक्ष की सप्तमी को शीतला सप्तमी और चैत्र मास की कृष्णपक्ष की अष्टमी को शीतला अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। होली के बाद शीतला सप्तमी या अष्टमी का त्योहार आता है। इस दिन बासी खाना खाया जाता है और शीतला माता को अर्पित किया जाता है। इसलिए इसे बसौड़ा भी कहते हैं, जिस जगह होली की पूजा होती है, उसी जगह बसौड़े की पूजा की जाती है। जो लोग अष्टमी की पूजा करते हैं वो लोग सप्तमी की रात को खाना बनाकर अष्टमी को बासी खाने को प्रसाद के रूप में शीतला माता को अर्पित करते हैं। इस साल शीतला अष्टमी पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 8 मिनट से 6 बजकर 41 मिनट तक है।

नाम के अनुसार ही शीतला माता को शीतल चीजें पसंद हैं। इस दिन व्रत रखने और पूजा करने से व्यक्ति को चेचक, खसरा जैसे रोगों का प्रकोप नहीं रहता। मान्यता के अनुसार शीतला माता को ठंडी चीजें बहुत प्रिय होती है। शीतला सप्तमी और अष्टमी को ठंडी चीजों का भोग लगाया जाता है।

शीतला अष्टमी पूजा मुहूर्त - 06:08 AM से 06:41 PM
अवधि - 12 घण्टे 33 मिनट।
अष्टमी तिथि प्रारम्भ - अप्रैल 04, 2021 को 04:12 AM बजे
अष्टमी तिथि समाप्त - अप्रैल 05, 2021 को 02:59 AM बजे।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार