संकट मोचन हनुमान मंदिर पर भजन संध्या और हठीले हनुमान मंदिर पर सुंदरकांड पाठ का भीलवाड़ा हलचल पर होगा लाइव प्रसारण

 

भीलवाड़ा (हलचल)। हनुमान जयंति महोत्सव को लेकर तैयारियां शुरू हो गई है। भीलवाड़ा में सबसे बड़ी भजन संध्या श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर पर होगी जबकि हठीले हनुमान मंदिर पर सुन्दरकांड का पाठ रखा गया है। इन दोनों कार्यक्रमों का भीलवाड़ा हलचल पर लाइव प्रसारण होगा। 
श्री संकट मोचन हनुमान मंदिर के महंत बाबूगिरी महाराज ने बताया कि हनुमान जन्मोत्सव के मौके पर 5 अप्रैल को सायं 7 बजे विशाल भजन संध्या का आयोजन रखा गया है। भजन संध्या में प्रमोद त्रिपाठी, उमा लहरी व गोपाल सेन की टीम भजनों की प्रस्तुति देगी। जबकि 6 अप्रैल को 12.15 बजे छप्पनभोग, महाआरती और 2500 किलो काजू कतली का महाभोग लगाया जाएगा। इसके बाद प्रसाद का वितरण होगा। जबकि शाम को साकेत मण्डल के नवल भारद्वाज द्वारा सुन्दरकांड पाठ किया जाएगा। भजन संध्या का भीलवाड़ा हलचल न्यूज पर लाइव प्रसारण होगा। जबकि रेलवे स्टेशन स्थित हठीले हनुमान मंदिर पर तीन दिवसीय जन्मोत्सव कार्यक्रम रखे गए है। मंदिर के पुजारी पंडित बालकिशन शर्मा ने बताया कि 4 अप्रैल को सायं 4.30 बजे सुंदरकांड पाठ रखा गया है। इंदौर के पंडित सुधीर व्यास पाठ का वाचन करेंगे। सुंदरकांड पाठ का भीलवाड़ा हलचल एप पर लाइव प्रसारण होगा। जबकि 5 अप्रैल को भजन संध्या सायं 7.30 बजे होगी। अशोक सोनी व भवानी म्युजिकल ग्रुप द्वारा प्रस्तुतियां दी जाएगी। 6 अप्रैल को सुबह 11 बजे महाआरती, भण्डारा के आयोजन होगा जबकि सायं 7.30 बजे बीएसएल सुंदरकांड सेवा समिति के डॉ. विष्णु सांगावत सुंदरकांड पाठ करेंगे। 
इसी तरह पेच के बालजी में भी हनुमान जयंति पर विभिन्न कार्यक्रम होंगे। पं.आशुतोष शर्मा ने बताया कि दिन में 12 बजे महाआरती और प्रसाद का वितरण होगा। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना