हिंद जिंक मुद्दे को राजनीतिक रंग देना दुर्भाग्यपूर्णः कांग्रेस

राजसमन्द (राव दिलीप सिंह) जिले के दरीबा में संचालित हिंदुस्तान जिंक वेदांता समूह की लेड-जिंक इकाई में कार्यरत श्रमिकों के शरीर मे शीशे की मात्रा को लेकर राजसमन्द विधायक किरण माहेश्वरी की ओर से उठाए गए मुद्दे को स्थानीय कांग्रेस पदाधिकारियों ने राजनीति से प्रेरित होने का आरोप लगाते हुए इसकी निंदा की है। साथ ही उन्होंने इस मसले को राजनीतिक रंग देने करने को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए सम्पूर्ण प्रकरण की उच्च स्तरीय जांच कराने एवं श्रमिकों के स्वास्थ्य के लिहाज से ठोस कदम उठाने की मांग की है।


राजसमन्द नगर परिषद प्रतिपक्ष नेता अशोक टांक, पूर्व नगर परिषद सभापति आशा पालीवाल, पूर्व पालिकाध्यक्ष नारायण लाल सुथार, पार्षद ब्रजेश पालीवाल, हेमंत रजक, युवक कांग्रेस जिलाध्यक्ष मुकेश भार्गव एवं युवा कांग्रेस विधानसभा अध्यक्ष हरजेन्द्र चैधरी आदि ने कहा कि जिंक का उक्त लेड प्लांट विगत वर्षो से संचालित है लेकिन पूर्व में प्रदेश में भाजपा सरकार काबिज होने के कारण विधायक माहेश्वरी ने यह मुद्दा नहीं उठाया। विधायक ने इससे पहले कभी भी उक्त प्लांट के श्रमिकों के शरीर में शीशे की मात्रा बढ़ने का न विरोध किया और न ही किसी स्तर पर मुद्दा उठाया। चूंकि, वे स्वयं पूर्ववर्ती वसुन्धरा सरकार में केबिनेट मंत्री थी, लिहाजा उन्होंने इस बारे में जिक्र करना मुनासिब नहीं समझा लेकिन अब कांग्रेस शासन होने से वे इसे बेवजह तूल देकर विरोध करने लगी है। विधायक राजनीतिक कारणों से अब इस विषय को मुद्दा बनाकर उछाल रही है जो उनकी मंशा जाहिर करता है। प्रतिपक्ष नेता अशोक टांक ने जोर देकर कहा है कि उक्त इकाई में कार्यरत कार्मिकों के शरीर में शीशे की मात्रा बढ़ना निश्चित ही हम सभी के लिए चिंताजनक है लेकिन सकारात्मक दृष्टि रखते हुए इस समस्या का हल निकाला जा सकता है और चिकित्सकीय उपायों से श्रमिकों को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखा जा सकता है लेकिन विधायक माहेश्वरी जिस ढंग से इसे मुद्दा बनाने में जुटी है, वह उनकी कार्यशैली पर सवाल खड़े करता है। विधायक का यह कदम रोजगार प्राप्त कर रहे युवाओं को गुमराम करने वाला है जो दुर्भाग्यपूर्ण है। राजनीतिक द्वेषता से क्षेत्रीय युवाओं को मिल रहे रोजगार के अवसर का विरोध किया जा रहा है जो पूर्णतया अनुचित है। टांक ने यह भी कहा है कि प्लांट में कार्यरत युवाओं के स्वास्थ्य से खिलवाड़ किसी भी स्थिति में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है तथा इनकी स्वस्थता के लिए हर सम्भव उपाय किए जाने की महत्ती जरूरत है, इसके लिए जिंक प्रशासन को ठोस कदम उठाकर जरूरी चिकित्सा सुविधाएं मुहैया करानी चाहिए। कांग्रेसजनों ने इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय कमेटी से जांच कराई जाए तथा उक्त श्रमिकों के स्वास्थ्य के मद्देनजर उचित प्रबन्ध कराने की पुरजोर मांग की है।


दौरा कर जुटाए दस्तावेज, कलक्टर को सौंपा ज्ञापन


प्रतिपक्ष नेता अशोक टांक ने बताया कि इस मामले में तथ्यात्मक जानकारी जुटाने के उद्देश्य से पदाधिकारियों ने हिन्दुस्तान जिंक दरीबा का दौरा किया। वहां सम्बन्धित अधिकारियों सहित अन्य लोगों से मिलकर विभिन्न पहलुओं पर जानकारी ली गई। साथ ही श्रमिकों के स्वास्थ्य से सम्बन्धित तथ्यात्मक जानकारी एवं जरूरी दस्तावेज लिए गए। उन्होंने बताया कि इस आधार पर बुधवार को प्रतिनिधि मण्डल ने जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया जिसमें इस मुद्दे में राजनीतिक हस्तक्षेप का पता लगाने, सम्पूर्ण प्रकरण की निष्पक्ष जांच एवं श्रमिकों के स्वास्थ्य की दृष्टि से उचित प्रबन्ध कराने की मांग की


टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

डॉक्टरों ने ऑपरेशन के जरिये कटा हुआ हाथ जोड़ा