Wednesday, March 10, 2021

रामनिवास धाम में फूलडोल महोत्सव 28 से परंतु भक्तों का प्रवेश वर्जित होगा

 


रामनिवास धाम में फूलडोल महोत्सव 28 से परंतु भक्तों का प्रवेश वर्जित होगा
प्रशासन ने नहीं दी कार्यक्रम करने की स्वीकृति 
शाहपुरा -(मूलचन्द पेसवानी)
भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा में स्थित अन्तर राष्ट्रीय रामस्नेही संप्रदाय की मुख्य पीठ रामनिवास धाम में इस वर्ष रामस्नेही संप्रदाय का वार्षिकोत्सव समारोह 28 मार्च से 2 अप्रेल 2021 तक होगा। कोरोना गाइडलाइन के चलते इस वर्ष रामनिवास धाम में भक्तों के प्रवेश पर प्रतिबंध रहेगा। संप्रदाय के पीठाधीश्वर जगतगुरू आचार्यश्री स्वामी रामदयाल महाराज के प्रवचन भी वर्चुअल ही हो सकेगें। रामनिवास धाम में केवल संप्रदाय के संतों का ही आवास रह सकेगा। इस आशय की घोषणा आचार्यश्री के निर्देश पर भेख भंडारी संत शंभुराम रामस्नेही ने एक प्रेस वक्तव्य जारी कर दी है। उल्लेखनीय है कि होली दहन से रंगपंचमी तक संप्रदाय का महोत्सव आयोजित होता है जिसमें लाखों भक्त पहुंचते है। 
भेख भंडारी संत शंभुराम रामस्नेही ने बताया कि 251 वर्षो से शाहपुरा में रामस्नेही संप्रदाय का वार्षिकोत्सव फूलडोल महोत्सव अनवरत चल रहा है। इस बार कोरोना गाइड लाइन के चलते तथा कुछ राज्यों में कोरोना के नये स्ट्रेन के आने से स्थानीय व जिला प्रशासन की अभिशंसा पर यह निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि महोत्सव में इस बार दिन रात कार्यक्रम होने के बजाय केवल प्रातः 5 बजे से दोपहर 12 बजे तक ही कार्यक्रम हो सकेगें। 28 मार्च से 2 अप्रेल 2021 तक प्रतिदिन प्रातः 5 बजे से 6 बजे तक रामधुनी, कंम्बलजी महाराज का बारादरी में पदारपण, आचार्यश्री द्वारा वाणी शब्दों का प्रवचन, प्रातः 9.30 बजे हस्तलिखित पूज्य वाणीजी महाराज का पाठ के साथ प्रवचन व चार्तुमास की अर्जियों का वाचन होगा। प्रातः 10.30 बजे पूज्य वाणीजी की शोभायात्रा व थाल जुलूस, दोपहर 12 बजे आरती पूजन कार्यक्रम होगा। इसके अलावा परिसर में प्रतिवर्ष होने वाले प्रवचन सहित अन्य कार्यक्रम इस बार नहीं होगें।
भेख भंडारी संत शंभुराम रामस्नेही ने बताया कि आचार्यश्री द्वारा जारी की गई फूलडोल महोत्सव गाइड लाइन के अनुसार बाहर से आने वाले भक्तों को आवास व भोजन प्रसाद की व्यवस्था भी नहीं होगी। जिनके परिसर में स्थायी कमरे बने है वो भी महोत्सव में नहीं ठहर सकेगें। प्रतिदिन शोभायात्रा सुरजपोल द्वार तक ही जायेगी। अंदर किसी का प्रवेश नहीं होगा। बाहर दर्शनार्थियों के लिए सभी दर्शन वर्चुअल एलसीडी व फेसबुक पेज से कराये जायेगें। शाहपुरा वासी भी रामनिवास धाम में प्रवेश नहीं कर सकेगें। रामनिवास धाम में केवल संतों का ही प्रवास रहेगा। संतों का आगमन 25 मार्च को प्रातः 7 बजे होगा।
आचार्यश्री ने समस्त देश दुनियां में रहने वाले रामस्नेही अनुरागियों के नाम एक विडियो संदेश जारी कर कहा है कि कोरोना गाइड लाइन की पालना के लिए वो अपने अपने घरों में ही महाप्रभु रामचरणजी महाराज के चित्र के सम्मुख राम नाम सुमिरन करें तथा किसी को भी रामनिवास धाम में आने की आवश्यकता नहीं है। कोरोना गाइड लाइन के चलते रामनिवास धाम प्रबंधन व स्थानीय प्रशासन कोई कार्रवाई करेगा तो उसकी जिम्मेदारी भक्तों की स्वयं की होगी।
 

महिलाएं कर सकती हैं बेहतर विकास: कीर्ति

  भीलवाड़ा (हलचल)।  फिल्म एक्ट्रेस कीर्ति चौधरी ने कहा है कि महिलाएं बेहतर विकास कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि वे दूसरी बार भीलवाड़ा आई हैं। ...