गुंजने लगे है होली के गीत, होली खेला रे कानुड़ा...

 

 

सवाईपुर ( सांवर वैष्णव ) होली का त्यौहार मन मे खुशिया उमंग व रंगों का त्यौहार होता है । होली का त्यौहार समीप निकट आते ही  गावों में होली के गीत सुनाई देने लगे हैं । होली के रसिया चंग और डफ की थाप पर थिरकने लगते हैं | रुत आई रे पपीहा तेैरे बोलण की, लाग्यो लक्ष्मण के बाण, होली खेला रे कानूड़ा रुत फागुण की जैसे कई गीत चंग की थाप के साथ कड़ी-कड़ी मिलाकर लोक संस्कृति को साकार कर रहे हैं । सवाईपुर कस्बे के होली का त्यौहार नजदीक आते ही चंग की थाप सुनाई दे रही हैं ।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना