ऐहड़ा के नाम पर होने वाले शिकार को रोकने की मांग

 

भीलवाड़ा (हलचल)। पीपुल फॉर एनीमल्स के प्रदेश प्रभारी बाबूलाल जाजू ने भीलवाड़ा, अजमेर व राजसमंद जिले सहित अन्य जिलों में कुछ जाति विशेष के लोगों द्वारा होली के बाद से शीतला सप्तमी पर्व तक ऐहड़ा प्रथा के नाम पर मोर, जंगली शूकर, चिंकारे, काले हिरण, रोजड़े, खरगोश, तीतर, बटेर सहित अन्य वन्यजीवों के शिकार व वन्यजीवों को सामूहिक रूप से घेरकर लाठियों से भी पीटने के मामले में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत शिकारियों पर कठोर कार्यवाही की मांग मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मोहनलाल मीणा को पत्र भेजकर की है।
जाजू ने बताया कि मुख्य रूप से भीलवाड़ा के करेड़ा, शिवपुर, बदनोर, आसीन्द, ज्ञानगढ़, अजमेर के ब्यावर, खरवा, मसूदा, कोटड़ा, जवाजा, राजसमंद के भीम सहित अन्य गांवो में ऐहड़ा के तहत वन्यजीवों का शिकार होता है। जाजू ने मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मीणा से भीलवाड़ा, राजसमंद, अजमेर सहित अन्य जिलों के उप वन संरक्षकों को निर्देशित कर गश्त व्यवस्था बढ़ाकर होने वाले शिकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने की मांग की है। जाजू ने मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मीणा को पूर्व में ऐहड़ा के नाम पर वन्यजीवों के शिकार के वीडियो भी भेजे हैं।


Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक