Saturday, March 27, 2021

ऐहड़ा के नाम पर होने वाले शिकार को रोकने की मांग

 

भीलवाड़ा (हलचल)। पीपुल फॉर एनीमल्स के प्रदेश प्रभारी बाबूलाल जाजू ने भीलवाड़ा, अजमेर व राजसमंद जिले सहित अन्य जिलों में कुछ जाति विशेष के लोगों द्वारा होली के बाद से शीतला सप्तमी पर्व तक ऐहड़ा प्रथा के नाम पर मोर, जंगली शूकर, चिंकारे, काले हिरण, रोजड़े, खरगोश, तीतर, बटेर सहित अन्य वन्यजीवों के शिकार व वन्यजीवों को सामूहिक रूप से घेरकर लाठियों से भी पीटने के मामले में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 के तहत शिकारियों पर कठोर कार्यवाही की मांग मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मोहनलाल मीणा को पत्र भेजकर की है।
जाजू ने बताया कि मुख्य रूप से भीलवाड़ा के करेड़ा, शिवपुर, बदनोर, आसीन्द, ज्ञानगढ़, अजमेर के ब्यावर, खरवा, मसूदा, कोटड़ा, जवाजा, राजसमंद के भीम सहित अन्य गांवो में ऐहड़ा के तहत वन्यजीवों का शिकार होता है। जाजू ने मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मीणा से भीलवाड़ा, राजसमंद, अजमेर सहित अन्य जिलों के उप वन संरक्षकों को निर्देशित कर गश्त व्यवस्था बढ़ाकर होने वाले शिकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने की मांग की है। जाजू ने मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक मीणा को पूर्व में ऐहड़ा के नाम पर वन्यजीवों के शिकार के वीडियो भी भेजे हैं।


भीलवाड़ा में कोरोना का महाब्लास्ट, 407 नये पॉजिटिव, मांडल, बापूनगर, मांडलगढ़ बने हॉट स्पॉट

   भीलवाड़ा हलचल। भीलवाड़ा में कोरोना का शनिवार को महाब्लास्ट हुआ है। कोरोना ने पुराने सभी रेकार्ड तोडते हुये अपना रौद्र रुप दिखाया है। शनिव...