आरयूआईडीपी ने सीवरेज प्रोजेक्ट की जागरूकता के लिए आयोजित की चित्रकला प्रतियोगिता


भीलवाडा । आरयूआईडीपी द्वारा सीवरेज प्रोजेक्ट की जागरूकता के लिए एक चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन शहर के राजकीय उच्च माध्यमिक विधालय राजेन्द्र्र मार्ग भीलवाड़ा मंे किया गया। चित्रकला प्रतियोगिता का विषय था ठोस व तरल कचरा निस्तारण। प्रतियोगिता मेें 11 वीं व 12 वीं कक्षा के लगभग 100 छात्रों ने विभिन्न रंगों के माध्यम सें अपने विचारों को कागज पर उकेरा और शहर मे ंसाफ सफाई का संदेश दिया। कार्यक्रम की शुरूआत में आरयूआईडीपी जयपुर से आयेे माॅनिटरिंग एण्ड इवेल्युवेशन एक्सपर्ट अनिल सिंह ने प्रतिभागियों को प्रोजेक्ट की विस्तृत जानकारी दी और बताया कि इस प्रतियोगिता का आयोजन प्रोजेक्ट की कैप इकाई द्वारा स्टूडेन्ट अवेयरनेस तरल प्रोग्राम के तहत किया गया जिसका उदेश्य छात्रों में सीवरेज प्रोजेक्ट के बारे मेें और ठोस व कचरा निस्तारण विषय पर जागरूकता का प्रसार करना है।  उन्हाने बताया कि आरयूआईडीपी द्वारा शहर में सीवर लाइन बिछाने का कार्य किया जा रहा है। हांलाकि लाइन बिछाते वक्त आमजन को थोड़ी परेशानी होती है लेकिन प्रोजेक्ट इस बात का विशेष ध्यान रखता है कि कार्य के दौरान लोगों को कम से कम असुविधा हो। उन्होन बताया  कि निश्चित ही यह सीवर परियोजना शहर की साफ सफाई में अहम कढ़ी साबित होगी।
प्रतियोगिता के समापन पर पुरूस्कार वितरण किये गये जिसमें प्रथम स्थान पर कक्षा 11 के शुभम सोनी, द्वितीय स्थान पर शुभकरण मेघवंशी और तृतीय स्थान पर कक्षा 12 के अंकित यादव रहे। प्रोजेक्ट द्वारा आनंद गाडरी, विजय खोइवाल, नवीन सोनी, आयुष नाथ और ललित गुरनानी को सान्तवना पुरूस्कार दिया गया। चित्रकला प्रतियोगिता मे भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों को आरयूआईडीपी द्वारा सहभागिता प्रमाण पत्र भी दिये गये।
कैप के सोशियल एक्सपर्ट कमलेश शर्मा ने छात्रों को प्रतियोगिता की विषय वस्तु की जानकारी दी और कहा की घर से निकले ठोस व तरल कचरे के सही निस्तारण से घर, गली, शहर मे सफाई् रहती है। 
स्कूल के कार्यवाहक संचालक अनिल मोहनपुरिया और कार्यक्रम में मंच संचालन कर रहे । अमीन खान ने छात्रों को साफ-सफाई का संदेश अपने आसपास पहंुचाने की अपील की। प्रोजेक्ट द्वारा विद्यालय को कार्यक्रम में सहयोग के लिए को स्मृति चिन्ह भेट किया गया। 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना