Monday, March 8, 2021

नारी शक्ति समाज और जीवन का मूल आधार


चित्तौडगढ  हलचल।  प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की शाखा भाई से प्रताप नगर सेवा केंद्र पर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें सेवा केंद्र की संचालिका राजयोगिनी आशा दीदी जी ने कहा की आज समाज में नारी शक्ति हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही है क्योंकि नारी शक्ति हमारे समाज और जीवन का मूल आधार है महिलाओं के बिना इस दुनिया की कल्पना करना असंभव है नारी कुछ सामान्य शब्द नहीं है ग्रहणी कोई सामान्य शब्द नहीं है सारा घर जिसका रि नी है वह ग्रहणी है वैदिक काल से नारी को देवी माना जाता है कहते हैं जहां नारी की पूजा होती है वही देवता रहते हैं इस विश्वविद्यालय की न्यूज फाउंडेशन वाह मुख्य प्रशासन का भी नारी ही थी और इस विश्वविद्यालय की बागडोर स्वयं परमात्मा ने महिलाओं को शिव शक्ति शक्ति स्वरूपा बनाकर सौंपी है विश्व की एकमात्र संस्था है जहां मुख्य रूप से नारी ही संभालती आ रही है इस अवसर पर बीके गीता बहन ने भी अपने विचार व्यक्त किए उन्होंने कहा कि आज इस युग में नारी पुरुष से कदम से कदम मिलाकर चल रही है इस अवसर पर बीके बेला बहन ने बताया की महिला दिवस क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय महिला सम्मेलन सन 1908 मैं न्यूयॉर्क में हुआ बड़ी संख्या में महिलाएं एकत्रित हुई जॉब के समय को कम करने और वेतन बढ़ाने के लिए उसके 1 वर्ष बाद उसे अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में मनाया जाने लगा यह113 वा महिला दिवस है कई देश इसको अलग-अलग रूप से मनाते हैं कहा जाता है 19वीं शताब्दी से महिलाओं को मतदान का अधिकार भी मिला था महिला दिवस का उद्देश्य पुरुष और महिला में समानता हो और लोगों में जागरूकता आई इस अवसर पर अनिता बहन बीके मंजू बहन वह बालकृष्ण भाई ने भी अपने विचार नारी शक्ति के सम्मान में प्रस्तुत की सभी नारी शक्ति की सराहना कर रहे थे क्योंकि जहां नारी नहीं वह शक्ति वास नहीं करती देवता वास नहीं करते इस अवसर पर आदरणीय राजयोगिनी आशा दीदी जी को सम्मानित किया गया।

वैक्सीन की कमी, ऑक्सीजन की नहीं: रघु शर्मा

बोले- जनता के गले उतरने वाले फैसलों से कांग्रेस जीतेगी तीनों विधानसभा सीटें भीलवाड़ा (संपत माली)।  चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा है क...