Tuesday, March 2, 2021

मोर्चरी में अब शव रह सकेंगे सुरक्षित, परिजनों व पुलिस वालों को मिल सकेंगी छाया पानी की सुविधा, नये भवन का निर्माण शुरू

 

 भीलवाड़ा संपत माली। भीलवाड़ा में लंबे समय बाद मोर्चरी पर आने वाले मृतकों के परिजनों, पुलिस व चिकित्सकों को राहत मिल सकेगी। इतना ही नहीं शवों को भी सुरक्षित रखा जा सकेगा। यह संभव हो पाया है मोर्चरी के नये भवन बनने से। भवन का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि यह काम 3 से 4 माह में पूरा हो जायेगा। 
महात्मा गांधी अस्पताल के पीएमओ डॉ. अरुण गौड़ ने हलचल को बताया कि समय -समय पर यह मांग उठती रही है कि मोर्चरी का एरिया जो है, वहां शव रखने की मशीन उचित तरीके से रखने की व्यवस्था हो। मृतकों के परिजनों, पोस्टमार्टम कराने आने वाले पुलिसकर्मियों व चिकित्सकों के बैठने के साथ ही छाया, पानी की व्यवस्था हो। इसे लेकर अस्पताल प्रशासन ने जनप्रतिनिधियों व जिला कलेक्टर के समक्ष डिमांड रखी गई। इसके संदर्भ में नगर विकास न्यास से मोर्चरी के नये भवन के लिए 25 लाख रुपये स्वीकृत हुये हैं। 
तीन से चार माह में काम पूरा हो जायेगा। इसके बाद वहां काफी सुविधायें मिलने लगेंगी। मोर्चरी में दो डीफ्रीज लगाये जायेंगे। इसके अलावा बाहर ग्रीनरी डवलप की जायेगी। परिजनों, पुलिसकर्मियों के बैठने, छाया-पानी की व्यवस्था की जायेगी। साथ ही  मोर्चरी में मेडिकल कॉलेज के छात्रों को आवश्यकता होने पर पोस्टमार्टम की जानकारी देने के लिए अगर बुलाया जाता है तो उसके लिए भी प्रोपर जगह बनाई जायेगी।