कहीं आप हर मील में अचार खाने के शौकीन तो नहीं, जानिए इसके 4 साइड इफेक्ट

 लाइफस्टाइल डेस्क। आचार का खट्टा-मिठा और तीखा स्वाद ज्यादातर लोगों को पसंद आता है। तरह-तरह के अचार जैसे नींबू, गाजर, मिर्ची, लहसुन,आम, आंवला, कटहल ऐसे प्रमुख अचार हैं जिन्हें लोग रोजमर्रा खाने के साथ खाना पसंद करते हैं। खट्टे, मीठे और तीखे स्वाद में उपलब्ध अचार भारतीय थाली के जायके को बढ़ाने में अहम किरदार निभाते हैं। कुछ लोग अचार खाने के आदि हो जाते हैं, उन्हें जब तक खाने में अचार नहीं मिले तो उनका खाना कंप्लीट नहीं होता। अगर कभी-कभी और सीमित मात्रा में अचार का सेवन किया जाए तो इम्यूनिटी बूस्ट होती है, साथ ही पाचन भी दुरुस्त रहता है। लेकिन आप जानते हैं कि ज़ुबान को चटखारा देने वाला अचार का ज्यादा इस्तेमाल आपकी सेहत को भी नुकसान पहुंचा सकता है। इसका लगातार सेवन करने से आप बीमार हो सकते हैं। आइए जानते हैं कि अचार का लगातार इस्तेमाल करने से कौन सी चार बीमारियां होने का खतरा रहता है।

अचार के साइड इफेक्ट

कोलेस्ट्रॉल बढ़ा सकता है:

अगर आप सुबह से लेकर शाम तक खाने के साथ अचार का सेवन करते हैं तो इससे आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। अचार को ठीक रखने के लिए उसमें इस्तेमाल होने वाला तेल आपका कोलेस्ट्रॉल बढ़ा सकता है। कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से दिल की सेहत को खतरा हो सकता है।

बॉडी में सूजन पैदा करता है अचार: 

अचार का ज्यादा सेवन करने से बॉडी में सूजन हो सकती है। अचार को लम्बे समय तक महफूज रखने के लिए जिन चीजों का इस्तेमाल किया जाता है उनसे बॉडी में सूजन पैदा हो सकती है। अगर आप घर का बना अचार खाते हैं तो आपको ज्यादा नुक्सान नहीं होगा। 

अल्सर का खतरा बढ़ा सकता है:

अचार बनाने के लिए उसमें ज्यादा मसाले और सिरके का इस्तेमाल किया जाता है, जिसका लंबे समय तक इस्तेमाल करने से आपको अल्सर की शिकायत हो सकती है। इसलिए खाने में अचार का सेवन सीमित करें।

ब्लड प्रेशर बढ़ा सकता है:

अचार के ज्यादा सेवन से ब्लड प्रेशर बढ़ने का खतरा हो सकता है। किसी भी तरह के अचार में नमक का इस्तेमाल काफी मात्रा में किया जाता है, नमक का ज्यादा सेवन आपका ब्लड प्रेशर बढ़ा सकता है। अचार का लगातार सेवन करने से आपको हाइपरटेंशन और दिल से जुड़ी बीमारी होने का खतरा बना रहता है। 

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक