क्या आप भी नहीं चुका पा रहे हैं, अपनी कार की EMI? तो इन अधि​कारो का करें इस्तेमाल, बैंक नहीं करेगा परेशान

 


कोविड -19 ने लोगों के जीवन को बदल दिया है। नौकरी छूटने और वेतन में कटौती के साथ कई लोग भारी वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं, और इसका सीधा असर लोगों के जीवन पर पड़ रहा है। कुछ लोग अपने लोन की ईएमआई तक देने में असमर्थ हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं, कि लोन ईएमआई भुगतान में चूक करना आपके क्रेडिट स्कोर के लिए हानिकारक हो सकता है, और इससे आपको भविष्य में दूसरा लोन नहीं मिलेगा।

यदि आप भी वर्तमान में ऐसी स्थिति का सामना कर रहे हैं, जहां आप अपना लोन चुकाने में असमर्थ हैं, तो आपको अपने अधिकारों को समझने की आवश्यकता है। यदि आप घर या कार लोन का भुगतान करने में चूक करते हैं, तो आपको पता होना चाहिए कि आप अपने वाहन पर मालिकाना हक नहीं खो देते हैं। बजाय इसके उधारदाताओं को अपने बकाया की वसूली के लिए कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है।

1. उधारकर्ता को हमेशा याद रखना चाहिए कि यदि वे लोन की ईएमआई में चूक करते हैं, तो वे अपने अधिकारों को आत्मसमर्पण नहीं कर सकते हैं। इसके बजाय उधारदाताओं को अपने बकाया की वसूली के लिए कार्यवाही शुरू करते समय एक निश्चित प्रक्रिया का पालन करना होता है। यहां ध्यान देने वाली बात है, यदि उधारकर्ता लगातार तीन महीने (90 दिनों) के लिए ईएमआई का भुगतान करने में विफल रहता है। तो इस तरह के मामलों में, ऋणदाता को पहले उधारकर्ता को 60 दिन का नोटिस जारी करना होता है। यदि उधारकर्ता दी गई नोटिस अवधि के भीतर चुकाने में विफल रहता है, तो ऋणदाता संपत्ति की बिक्री के लिए जा सकता है। वहीं संपत्ति या वाहन का निपटान करने से पहले ऋणदाता को बिक्री के विवरण का उल्लेख करते हुए एक और 30-दिवसीय सार्वजनिक नोटिस देना होता है।  

2.लोन लेने वाले व्यक्ति को पता होना चाहिए कि संपत्ति या वाहन बेचने से पहले, ऋणदाता को संपत्ति के उचित मूल्य को शामिल करते हुए एक नोटिस जारी करना होगा। नोटिस में नीलामी की आरक्षित कीमत, तारीख और समय का भी उल्लेख होना चाहिए। यह सब बैंक के मूल्यांकनकर्ताओं द्वारा गणना की जाती है। यदि आपको लगता है कि आपकी संपत्ति या वाहन का ऋणदाता द्वारा कम मूल्यांकन किया गया है, तो आप वर्तमान नीलामी में भाग ले सकते हैं।

3.लोन चुकाने में विफल रहने वाले उधारकर्ताओं को यह भी याद रखना चाहिए कि भले ही उनकी संपत्ति को वापस ले लिया गया हो, लेकिन वह नीलामी की प्रक्रिया की निगरानी कर सकता है। यदि ऋणदाता को अपनी बकाया राशि की वसूली के बाद कोई अतिरिक्त राशि प्राप्त होती है, तो उन्हें शेष राशि उधारकर्ता को वापस करनी होगी।

4.अक्सर आपने देखा होगा कि लोन देने वाली संस्थान अपने ऋणों को चुकाने के लिए उधारकर्ताओं को मजबूर करते हैं, और इसके लिए वह वसूली एजेंटों को नियुक्त करते हैं। हालांकि, उधारकर्ताओं को पता होना चाहिए कि एक निश्चित रेखा है जिसे ये एजेंट पार नहीं कर सकते हैं। ये एजेंट सिर्फ उधारकर्ता के निवास या कार्यस्थल पर संपर्क कर सकते हैं।

वहीं इन एजेंट को सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे के बीच उधारकर्ता से मिलने का समय दिया जाता है। वे नागरिक व्यवहार के मानदंडों का उल्लंघन नहीं कर सकते। उधारकर्ताओं को पता होना चाहिए कि यदि कोई एजेंट उन्हें या उनके परिवार के सदस्यों को डराने या अपमानित करने का प्रयास करता है, तो वे ऐसे मामले को ऋणदाता और अंत में बैंकिंग लोकपाल कार्यालयों के साथ उठा सकते हैं।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !