दूसरी बार भी नहीं सजेगा गणपति का दरबार

 

भीलवाड़ा (हलचल)। भीलवाड़ा जिले में दूसरी बार भी गणपति महोत्सव नहीं मनाया जाएगा। इस महोत्सव को लेकर इस बार भी मूर्तियां नहीं बनाई गई है। महोत्सव समिति ने लोगों से घरों में ही प्रथम पूजनीय गणपति की स्थापना कर आराधना करने की अपील की है।
कोरोना संक्रमण के चलते पिछले वर्ष भी गणपति महोत्सव नहीं मनाया जा सका था और इस बार भी महोत्सव समिति ने दो-तीन माह पहले तैयार की जाने वाली मूर्तियां नहीं बनाई है।
समिति का कहना है कि जब मूर्तियां बनाने का समय था तब कोरोना यौवन पर था। जिसके चलते इस बार भी मूर्तियां नहीं बनाई गई है और न ही समिति गणपति महोत्सव का आयोजन करेगी।
भीलवाड़ा में गणेश महोत्सव को लेकर समिति द्वारा 500 बड़ी मूर्तियां और 700 छोटी मूर्तियां बनाई जाती है। इनमें से 55 बड़ी मूर्तियां भीलवाड़ा शहर में स्थापित होती है। जबकि अन्य मूर्तियां राजसमंद, चित्तौड़, अजमेर और बूंदी जिले में भेजी जाती है। पिछले दो साल से कोरोना के चलते शहर के चौराहों पर धार्मिक कार्यक्रम बन्द हो गए है। सभी समाजों के धार्मिक कार्यक्रम अब घरों में ही किए जा रहे है। वर्तमान स्थिति में सार्वजनिक स्थानों पर कार्यक्रमों की छूट नहीं दी गई जिसके चलते हाल ही में मोहर्रम नहीं निकाले जा सके और अब गणपति स्थापना भी नहीं हो पाएगी। 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !