शनिवार को इन चीजों का दिखना होता है शुभ, जानें इनके बारे में

 


शनिवार का दिन केवल शनिदेव को ही समर्पित नहीं होता है। इस दिन हनुमान जी की पूजा भी की जाती है। ऐसे में इस दिन शनिदेव के साथ-साथ हनुमान जी की भी पूजा की जाती है। जहां शनिदेव की पूजा करने से व्यक्ति के शनि दोष खत्म हो जाते हैं। वहीं, हनुमान जी की पूजा करने से व्यक्ति भय मुक्त हो जाता है और उस पर हनुमान जी की कृपा बनी रहती है। अगर शनिदेव की पूजा की बात करें तो शनिदोष से मुक्ति पाने के लिए मूल नक्षत्रयुक्त शनिवार से लेकर 7 शनिवार तक शनिदेव की पूजा करनी चाहिए। साथ ही व्रत भी करने चाहिए।

शनिवार के दिन पूजा तो करनी ही चाहिए। साथ ही कुछ ऐसी चीजें होती हैं जो इस दिन अगर आपको दिखें तो अत्यंत शुभ मानी जाती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शनिवार के दिन सुबह के समय निम्न तीन चीजें दिखाई दें तो यह आपके लिए बेहद शुभ होता है। ऐसा करने से व्यक्ति को विशेष कृपा की प्राप्ति होती है।

शनिवार के दिन ये चीजें दिखना होता है शुभ:

1. अगर आपको शनिवार के दिन सुबह के समय कोई भिखारी या फिर कोई गरीब व्यक्ति दिखाई देता है तो उसे शुभ माना जाता है। ध्यान रहे कि इन्हें कुछ न कुछ दान जरूर दें। ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न हो जाते हैं। अगर आप गरीब या भिखारी का निरादर करते हैं तो शनिदेव क्रोधित हो सकते हैं।

2. अगर इस दिन सुबह के समय आपको सफाई कर्मचारी दिखता है तो कुछ न कुछ दान करें। साथ ही अगर संभव हो तो उसे काले कपड़े दान करें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आप पर शनिदेव की कृपा बनी रहती है।

3. इस दिन अगर आपको सुबह के समय काला कुत्ता दिखाई दे तो यह बेहद ही शुभ माना जाता है। कुत्ता शनिदेव का वाहन होता है। इसे तेल या घी लगी रोटी खिलाएं। रोटी के अलावा बिस्किट आदि भी आप खिला सकते हैं।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'  

 

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

देवगढ़ से करेड़ा लांबिया स्टेशन व फुलिया कला केकड़ी मार्ग को स्टेट हाईवे में परिवर्तन करने की मांग

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना