ग्राम सेवा सहकारी समिति कांदा में गड़बड़झाला, ग्रामीणों की शिकायत पर की जांच करने पंहुची टीम

 

 

सवाईपुर ( सांवर वैष्णव ):- सवाईपुर कस्बे के निकटवर्ती कांदा ग्राम पंचायत पर संचालित ग्राम सेवा सहकारी समिति में ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि व्यवथापक की अनियमितता से किसानों व गरीब कल्याण योजना के तहत गेंहू के लाभार्थियों को दूसरी जगह से गेंहू लेन में करनी पड़ती मशक्कत, वही 5 वर्ष से अधिक यूरिया व डीएपी खाद के लिए भी अन्य गाँवो में भटकना पड़ता है | वही किसानों का आरोप है कि सहकारी समिति में केसीसी जमा करने या लाभार्थियों को मिलने वाले क्लेम में भी अशिक्षित किसानों को तो न जाने कितने रुपये की चपत जानकारी के अभाव में कहा जस्ते है | शिकायतकर्ता दुष्यंत जाट का कहना है कि मेरी माता समता देवी पत्नी देबीलाल जाट के नाम से 49000 रुपये की केसीसी है, जिसमे से 40000 रुपये निकलवा रखे थे | जिसे जमा करने हेतु 24 जुलाई को जमा करने के लिये व्यवस्थापक को रोकड़ दिये थे, जिसे उन्होंने खाते में जमा नही करने पर मैंने जिला अधिकारी को शिकायत की शिकायत करने पर मंगलवार को अधिकारी जांच करने पंहुचे, कार्यवाही के दौरान 40000 रुपये का चेक दे दिया ||

 

इनका ये कहना-

 

मुझसे गलती तो हुई, दो किसान से रुपये लिये, जिसको समय पर जमा नही कर सका | मंगलवार को एक किसान को 11 तारीख व एक किसान को 15 तारीख का चेक दे दिया है | खाद के लिए मैं ऑरेंज होने से प्रशिक्षण में नही जा सका | जिससे लाइसेंस नही मिलने से खाद उपलब्ध नही करवा सका व अधिकारियों ने कार्यवाही करते हुये, मुझे सहायक व्यवस्थापक पर कार्य करने को कहा व व्यवस्थापक का चार्ज दूसरे को देंगे ||

सोहन लाल रेगर व्यवथापक ग्राम सेवा सहकारी समिति कांदा

 

किसान की शिकायत पर हमने दो किसानों को चेक दिलवा दिये व खाद लाइसेन्स व्यवस्थापक ज्यादा उम्र होने से प्रशिक्षण में भाग नही लेने से बिना लाइसेंस के खाद नही बेच सकते ||

लाला राम बारेठ ए ओ

 

किसानों से लिये पैसे लोटा दिये है ,खाद लाइसेंस के अभाव में वितरण नही किया ||

आशुतोष मेहता ई ए ओ

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक