मानसरोवर झील लबालब, जालेश्वर तालाब छलकने को

 


भीलवाड़ा । बाढ़ एवं अतिवृष्टि से निबटने के लिए शासन-प्रशासन भले ही पुख्‍ता आपदा प्रबंधन का दावा करे लेकिन हकीकत कुछ अलग ही है। आपदा प्रबंधन के लिए प्रशासन ने जल संसाधन विभाग ने कंट्रोल रूम बना रखा है, पर इसे यह पता नहीं है कि शहर के पटेल नगर में स्थित मानसरोवर झील (किशनावतों की खेड़ी तालाब) तथा मांडलगढ़ का जालेश्वर तालाब लबालब हैं। विभाग बांधों के जल स्तर की अपनी मॉर्निंग रिपोर्ट में दोनों तालाबों में जल स्तर बिलो सील लेवल यानी जीरो बता रहा है। हालांकि विभाग का यह तर्क है कि किशनावतों की खेड़ी नगर विकास न्यास तथा जालेश्वर तालाब मांडलगढ़
नगर पालिका को हैंडओवर किया जा चुका है। शहर की सबसे खूबसूरत मानसरोवर झील तो कुछ दिनों पहले हुई अÓछी बरसात में ओवरफ़लो भी हो गई थी। यह झील नगर विकास न्यास के अधीन है। यूआईटी के उद्यान अधीक्षक मोहमद रफीक का कहना है कि तत्कालीन यूआईटी चेयरमैन अक्षय त्रिपाठी के समय 2002 से ही यूआईटी मानसरोवर में काम करवाता रहा है। वह अभी लबालब है। वहीं मांडलगढ़ का ऐतिहासिक जालेश्वर तालाब भी छलकने के कगार पर है। इसकी भराव क्षमता 9.75 फीट है। इस तालाब की चादर चलने में महज एक फीट पानी आना बाकी है।
 अच्‍छी बारिश के बाद भीलवाड़ा जिले में एक बार फिर बारिश का दौर मंद पड़ गया है। जल संसाधन विभाग स्थित बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार आज सुबह आठ बजे तक समाप्त हुए चौबीस घंटों में 40 रेनगेज स्टेशनों में से महज नौ स्थानों पर ही बरसात हुई। हमीरगढ़ में एक मिमी, जहाजपुर दो, कोटड़ी 11, मांडलगढ़ छह, शाहपुरा चार, बिजौलियां सात, शकरगढ़ व पारोली में पांच-पांच, काछोला में तीन,जेतपुरा बांध पर 12 मिमी, कोठारी बांध पर पांच, नाहर सागर बांध पर छह मिमी पानी गिरा। जिले में अब तक औसत वर्षा 629.62 मिमी की तुलना में &2&.65 मिमी बरसात हो चुकी है, जो 51.4 प्रतिशत है। बड़े व मध्यम 60 बांध व तालाबों में कुल क्षमता 527.90 मिलियन यूबिक मीटर की तुलना में 119.102 मिलियन यूबिक मीटर यानी 22.56 प्रतिशत पानी आया है। अब बांधों में पानी की आवक भी कमजोर पड़ गई है।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक