हामी भरना सीआरपीएफ के एक सब इंस्पेक्टर को भारी पड़ा


अजमेर. लोन देने के नाम पर आए कॉल पर हामी भरना सीआरपीएफ के एक सब इंस्पेक्टर को भारी पड़ा। कॉलर ने बैंक संबंधित दस्तावेज हासिल कर खाते से पौने 2 लाख रुपए की नकदी साफ कर दी। पीडि़त सब इंस्पेक्टर ने गंज थाने में रिपोर्ट दी। पुलिस ने धोखधड़ी का मुकदमा दर्जकर अनुसंधान शुरू कर दिया।

हैडकांस्टेबल भागचन्द ने बताया कि सीआरपीएफ जीसी-2 फॉयसागर रोड में तैनात उप निरीक्षक विक्रमसिंह ने रिपोर्ट दी। उसमें बताया कि उसे 31 जुलाई को कॉल आया। कॉलर ने खुदको रिलायन्स कस्टमर केयर से बोलने बताते हुए ऋण के लिए पूछा। एसआई सिंह ने ऋण लेने के लिए हामीभर दी। कुछ देर बात कॉलर का फिर से कॉल आया। उसने विक्रमसिंह से उनका आधार कार्ड, पैन कार्ड और बैंक की पासबुक की फोटो मांगी। उन्होंने तीनों दस्तावेज की फोटो कॉलर को भेज दी।
साढ़े तीन लाख का लोन पास
एसआई विक्रमसिंह ने बताया कि उसको एक मैसेज आया। जिसमें उसके साढ़े तीन लाख रुपए का लोन अप्रूव होने की जानकारी दी गई थी। इसके बाद उसके बैंक खाते से एक लाख 78 हजार 849 रुपए की निकासी हो गई। रकम निकासी के दो दिन बाद तक कॉलर उससे ओर रकम की डिमांड करता रहा। पुलिस ने एसआई विक्रम सिंह की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्जकर अनुसंधान शुरू कर दिया। प्रकरण में अनुसंधान थानाधिकारी धर्मवीर सिंह जांच कर रहे हैं।

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक