एमबीबीएस स्टूडेंट को बदनीयती से फेल करने वाला प्रोफेसर गिरफ्तार

 


  भीलवाड़ा हलचल।  भीलवाड़ा के विजयाराजे सिंधिया मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस प्रथम वर्ष की एक छात्रा को बदनीयती से फेल करने तथा काट-छांटकर नम्बर कम देने के मामले में सुभाषनगर थाना पुलिस ने कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. शंकर मनोहर पंवार को गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि प्रोफेसर को पहले ही निलंबित किया जा चुका है।  
सुभाषनगर थाना प्रभारी पुष्पा कासौटिया ने हलचल को बताया कि एक छात्रा ने 24 जून 2021 को रिपोर्ट दी, जिसमें आरोप लगाया था कि कॉलेज के बायोकेमिस्ट्री के प्रोफेसर डॉ. शंकर मनोहर पंवार उसे परेशान करते थे। पंवार ने उसके मोबाइल नंबर ले लिए और उसे वाट्सएप पर मैसेज भेजने लगे। छात्रा ने अनदेखी की तो उसे धमकाने लगे और फेल करने की धमकी दी। फिर बदनीयती से पंवार ने उसकी प्रेक्टिकल शीट में कांट-छांट कर नम्बर कम कर दिए और उसे प्रथम वर्ष में फेल कर दिया। 
उधर, छात्रा ने इस बारे में 19 मई को प्रिंसीपल को शिकायत की तो इसकी जांच के लिए कमेटी बनी। गत 26 मई को कमेटी ने जांच में माना कि प्रो. शंकर मनोहर पंवार ने बदनीयती से प्रेक्टिकल के नंबरों में काट-छांट की। इसके बाद राज्य सरकार ने पंवार को 27 मई को निलम्बित कर दिया। छात्रा का आरोप है कि पंवार को निलंबित कर मुख्यालय भरतपुर कर दिया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर   पीडि़ता के धारा 164 के तहत अदालत में बयान दर्ज करवाये थे। 
इस मामले में सुभाषनगर पुलिस भरतपुर गई, जहां से मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. शंकर मनोहर पंवार को डिटेन कर यहां ले आई। पुलिस ने 54 वर्षीय आरोपित प्रोफेसर पंवार को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। कासौटिया ने बताया कि पंवार महाराष्ट्र के परवेनी जिले के सिताई विग रोड सोनपिट के रहने वाले हैं। अभी वे, सस्पेंशन कॉल में भरतपुर के गर्वेन्मेंट मेडिकल कॉलेज में कार्यरत हैं। 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !