सावन शनिवार को इस विधि से करें शिव की पूजा, शनि के प्रकोप से मिलेगी मुक्ति

 


हिंदी पंचांग के अनुसार सावन का महीना चल रहा है। सावन भगवान शिव को बहुत ही प्रिय है। सावन के प्रत्येक शनिवार को विधि-विधान से पूजा करने पर भगवान शनि की कृपा बरसती है। क्योंकि भगवान शिव ने ही भगवान शनिदेव का सृजन किया था। उन्होंने शनिदेव न्याय का देवता कहा जो कर्म के अनुसार फल देते हैं। शनि देवता भगवान शिव को अपना गुरु मानते हैं। इसीलिए सावन के शनिवार को शिव पूजा करने से शिव भक्तों पर शनि की कुदृष्टि नहीं पड़ती है। जिससे व्यक्ति का जीवन खुशहाल होता है। आइये जानते हैं कि सावन शनिवार के दिन इन पूजा विधियों से शनि प्रकोप से बचा जा सकता है।

सावन शनिवार के उपाय

1. सावन शनिवार के दिन रुद्राक्ष की माला से शनिदेव के मंत्र का जाप करना चाहिए। कम से कम रुद्राक्ष की एक माला जरूर करें। इससे शनि की कुदृष्टि से बचाव होगा।

2. सावन शनिवार के दिन जल में शहद डालकर भगवान शिव को स्नान कराने से शनि के प्रकोप से मुक्ति मिलती है और भविष्य में आने वाली कठिनाईयां दूर हो जाती हैं। 

3. सावन शनिवार के दिन तांबे के लोटे में जल के साथ थोड़ा से काला तिल डालकर भगवान शिव का जलाभिषेक किया जाता है। इससे शनिदेव की कृपा प्राप्त होती है।

4. सावन शनिवार के दिन भगवान शिव की पूजा करने के लिए प्रिय गहरे नीले का वस्त्र धारण करना चाहिए। इससे शनिदेव अपनी कृपा बरसाते हैं। 

5. सावन शनिवार के दिन भगवान शिव को नीला फूल अर्पित कर सकते हैं क्योंकि यह रंग शनिदेव को बहुत ही प्रिय है। इससे शनिदेव और भगवान शिव की विशेष कृपा मिलती है। 

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक