बसंत विहार सहित कई कॉलोनियों जलमग्न, मकानों में पानी भरा, नाले को बंद करने से बिगड़े हालात, सड़क निर्माण में लापरवाही का आरोप

 

भीलवाड़ा( हलचल)। भीलवाड़ा में शनिवार रात हुई तेज बारिश के चलते बसंत विहार जैसी पॉश कॉलोनी सहित कई कॉलोनियां  जल मग्न हो गई हैं और मकानों में पानी घुस गया, जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। भीलवाड़ा में 3 इंच और सर्वाधिक हुरड़ा में साढ़े आठ इंच पानी गिरा है। जानकारी के अनुसार ऊंचे इलाके में मानी जाने वाली शहर की सबसे महंगी कॉलोनी वसंत विहार भी पानी की जद में आ गई है ,कल रात हुई तेज बारिश के चलते यह कॉलोनी जलमग्न हो गई यहां के निवासियों ने बताया की ऐसा पहली बार हुआ है, उनका कहना है कि पास में मेवाड टेक्सटाइल मिल की जगह बन रही कॉलोनी से होकर निकलने वाले नाले को बंद कर देने के कारण ये हालात पैदा हुए हैं। वसंत विहार व गांधीनगर क्षेत्र का पानी इस नाले से होकर निकलता था लेकिन अब यह सारा पानी बसंत विहार और आसपास के क्षेत्र में जमा हो गया है जिसके चलते घरों में पानी घुस गया है और कई कारें पानी इंजन तक पहुंचने से खराब हो गई है ,कुछ दिन पहले भी बरसात के चलते ऐसे हालात बने थे, लेकिन नगर विकास न्यास और प्रशासन ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जिससे आज हालात और बिगड़ गए।
विजयसिंह पथिक नगर की हालत भी गम्भीर
 कुछ ऐसी ही स्थिति विजय सिंह पथिक नगर की भी बताई गई है जहां मकानों के बाहर 3-3 फीट तक पानी भर गया है और लोग घरो से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. विकास व्यास ने बताया कि पानी की निकासी के उचित प्रबंध नहीं होने कारण यह हालात बने हैं। कल रात तेज बारिश के कारण जोदडास के पास अंडर ब्रिज में पानी भरने से  यातायात अस्त व्यस्त हो गया लोगों को आने जाने में परेशानी हो रही है। गायत्री आश्रम के पास पांडू का नाला भी ओवर फ्लो होने से आवा जावी बंद हो गई है।
ये बड़ी लापरवाही .. भीलवाड़ा शहर में पिछले कुछ समय से सड़क  निर्माण में जमकर लापरवाही हो रही है, ऐसा आरोप जानकार लोगों ने लगाया है उनका कहना है कि सड़क निर्माण के लिए तकनीकी नियमों को दरकिनार कर पिछले कुछ सालों से लगातार सड़क निर्माण के नाम पर उन्हें खोदकर बनाने के स्थान पर डामर की परत पर परत चढ़ाई  जा रही है ।इसके चलते सड़के ,मकानों से ऊपर उठ गई है और मकान नीचे रह गए पहले जहा मकान दो से 3 फीट तक ऊपर थे, अब सड़कें आधा फिट तक ऊपर आ गई है ऐसे में सड़कों का पानी घरों मैं घुसना शुरू हो गया है और लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है कुछ लोगों ने इस तरह की लापरवाही के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लेने की मांग की है साथ ही उन्होंने सड़क निर्माण को व्यवस्थित करने की भी आवाज उठाई है जिससे लोगों को परेशानियों का सामना न करना पड़े उन्होंने यह सुझाव भी दिया कि अब जो सडके बनाई जाए उन्हें खुदवा कर बनाए ताकि सडक  मकानों से ऊंची ना उठे ।

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक