इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ ही आपको हेल्दी भी रखेगा आंवला और अदरक का जूस, जानिए कैसे तैयार करें

 


लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोनाकाल में हर इंसान को खुद को स्ट्रॉन्ग बनाए रखने के लिए बेस्ट डाइट का सेवन करना जरूरी है। स्ट्रॉन्ग से मतलब स्ट्रॉन्ग इम्यूनिटी से है, जो बीमारियों से लड़ने के लिए जरूरी है। स्ट्रॉन्ग इम्यूनिटी बनाने के लिए आंवला और अदरक का सेवन बेस्ट है। आंवला में मौजूद विटामिन सी इम्यूनिटी इंप्रूव करता है, साथ ही गैस की समस्या से भी निजात दिलाता है। शुगर कंट्रोल करने का बेस्ट इलाज है आंवला। आंवला के जूस के साथ अदरक का सेवन आपकी सेहत के लिए डबल डोज का काम करता है। अदरक में ऐसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत के लिए काफी अच्छे होते हैं। अदरक में मौजूद जिंजरोल ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जो खांसी, गले में खराश और सूजन कम करने में मददगार है। इतना ही नहीं अदरक कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में भी मददगार है।

आंवाला का जूस पीने में कड़वा लगता है, लेकिन सेहत को बेहद फायदा पहुंचाता है। इसकी कड़वाहट की वजह से आप इसका सेवन नहीं करते तो आप इसका स्वाद ठीक करने के लिए इसमें धनिया और पुदीने की पत्तियों का इस्तेमाल कर सकते हैं। पुदीना और हरा धनिया की खुशबू इस जूस के स्वाद को बढ़ाती है।

हरा धनिया के गुण:

हरे धनिया में विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और फाइबर होता है। इसमें डिटॉक्सिफाइंग, एंटी बैक्टीरियल और इम्युनिटी बढ़ाने वाले गुण मौजूद होते हैं। ये सभी गुण इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बेस्ट हैं।

पुदीने के गुण:

पुदीना सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है, इसके सेवन से बॉडी की सूजन और संक्रमण से लड़ने की ताकत मिलती है। पुदीना एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है, जो गले की खराश और खांसी से तुरंत राहत देता है। इसकी खुशबू सिरदर्द को दूर करने में भी असरदार है।

जूस कैसे बनाएं

सामग्री

आंवला- 5-6 काट लें

एक चम्मच अदरक का रस निकाल लें।

धनिया या पुदीना की कुछ पत्तियां

स्वादनुसार काला नमक

शहद1 चम्मच

बनाने की विधि:

आंवला का जूस बनाने के लिए आंवला, धनिया या पुदीना को अच्छे से गुनगुने पानी से वॉश कर लें। आंवला को काट कर जूसर में डालें। जूसर में अच्छे से ग्राइंड करके गिलास में छान के निकाले। आप चाहें तो इसमें फ्रूट चाट मिला कर इसका स्वाद बढ़ा सकते हैं।  

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

 

    टिप्पणियाँ

    समाज की हलचल

    घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

    समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

    सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

    25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

    मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

    महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

    घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना