सावन शिवरात्रि पर इस मुहूर्त में करें शिव पूजा, जानें व्रत तिथि एवं पारण समय

 

हिन्दू पंचाग के अनुसार, हर महीने कृष्ण पक्ष के 14वें दिन को मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है, लेकिन सावन में आने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहते हैं। साल में 12 शिवरात्रि आती हैं, लेकिन इन 12 शिवरात्रि में से 2 शिवरात्रि का सबसे अधिक महत्व माना जाता है। फाल्गुल मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं और सावन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को सावन शिवरात्रि कहा जाता है। ज्योतिषाचार्या एवं वास्तुविद् डॉ. आरती दहिया के अनुसार, सावन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि का व्रत रखा जाता है। इस बार सावन शिवरात्रि 6 अगस्त दिन शुक्रवार को मनाई जाएगी।

शिवरात्रि पूजा महत्व

सावन शिवरात्रि के दिन शिव परिवार की पूजा की जाती है। इस दिन व्रत, उपवास, मंत्र जाप तथा रात्रि जागरण का विशेष महत्व है। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव के साथ मां गौरी की पूजा करने से वैवाहिक जीवन की सभी समस्याएं समाप्त हो जाती हैं और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

सावन शिवरात्रि 2021 शुभ मुहूर्त

सावन शिवरात्रि व्रत तिथि: शुक्रवार, 6 अगस्त 2021

शिवरात्रि पूजा अवधि: केवल 43 मिनट तक (निशिता काल पूजा का समय देर रात 12 बजकर 06 मिनट से देर रात 12 बजकर 48 मिनट तक है)

शिवरात्रि व्रत पारण समय: शनिवार 7 अगस्त की सुबह 5 बजकर 46 मिनट से दोपहर 3 बजकर 45 मिनट तक।

सावन शिवरा​त्रि का दिन अत्यंत पावन होता है। इस अवसर पर शिव जी को बेलपत्र, गंगाजल, गाय का दूध, भांग, मदार, शमीपत्र, सफेद चंदन, सफेद पुष्प आदि अर्पित करना उत्तम रहता है। माता पार्वती की पूजा करते समय उनको अक्षत्, पुष्प, फल, धूप आदि के साथ सुहाग की सामग्री ​चढ़ानी चाहिए।

 डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !