तिलस्वां महादेव में शांति पाठ, लघु रुद्राभिषेक एव महामृत्युन्जय जाप का आयोजन

   


बिजौलिया (निर्मल कुमार खटीक) तिलस्वां महादेव मंदिर ट्रस्ट की ओर से पूरे पवित्र श्रावण माह में मंदिर परिसर में विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया साथ ही हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी श्रावण माह में उपरमाल किसान पंचायत एव तिलस्वां महादेव मंदिर ट्रस्ट के सानिध्य में शांति पाठ,लघु रुद्राभिषेक एव महामृत्युंजय जाप के कार्यक्रम की शुरुआत गणपति स्थापना के साथ पूजन ब्राह्मण वर्ण से शुरू होकर शुक्रवार 20 अगस्त तक चला मंदिर ट्रस्ट अध्यक्ष रमेशचन्द्र अहीर ने बताया कि देश मे सुख शान्ति अमन चैन रहे फसले लहलहाती रहे भूमि में खनिज सम्पदा पर्याप्त मिले क्षेत्रीय एव प्रान्तीय सुख समृद्धि बनी रहे आपसी भाई चारे की भावना रहे देश मे किसी भी प्रकार की कोई प्राकृतिक प्रकृति प्रकोप न हो इन सभी भावनाओ के निराकरण हेतु भगवान तिलस्वां नाथ की असीम कृपा से इंद्र देव को प्रसन्न करने हेतु  विभिन्न पंडितों के द्वारा तिलस्वां महादेव मंदिर ट्रस्ट के सानिध्य में इन सभी कार्यक्रमो का आयोजन किया गया है  मंदिर ट्रस्ट महासचिव मांगीलाल धाकड़ ने बताया कि 19 अगस्त श्रावण शुक्ला गुरुवार को हवन प्रारंभ हुआ जिसमे मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों द्वारा पूर्णाहुति सम्पन्न की गई एव श्रावण शुक्ला 14 शनिवार को भगवान का पूर्ण दुग्ध द्वारा अभिषेक किया गया एव श्रावण शुक्ला पूर्णिमा रविवार को पूजन अभिषेक, हेमाद्रिपित्र तर्पण व ऋषिहवन यज्ञोपवीत धारण के बाद देव विसर्जन होगा जिसमें क्षेत्र के अधिक से अधिक श्रद्धालु भाग लेकर पवित्र श्रावण माह का पुण्य लाभ लेंगे साथ ही तिलस्वां महादेव मंदिर ट्रस्ट द्वारा वर्षभर हर अमावस्या एव पूर्णिमा को पूजा पाठ हवन एव भगवान का अभिषेक किया जाता है।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना