पितर देव से लोग करेंगे कोरोना से बचाव की कामना

 


भीलवाड़ा (हलचल)। हरियाली अमावस्या को लेकर जहां मालपुए की खुशबू फैली हुई है वहीं गांवों में रविवार को दाल-बाटी-चूरमे की महक फैलेगी। देवरों में भोग लगेंगे और कई स्थानों पर आने वाले समय की जानकारी भी मिलेगी।
कोरोना संक्रमण के चलते पिछले दो सालों से हरियाली अमावस्या का पर्व बंदिशों के तहत मनेगा। लेकिन इस बार कोरोना भीलवाड़ा में नहीं होने के चलते लोगों में उत्साह है। शहर में मिठाईयों की दुकानों पर मालपुए और घेवर की महक उठ रही है और खरीददारी भी शुरू हो गई है। 
उधर गांवों में अधिकांश लोग अपने पितृदेव के देवरे पर नारियल अगरबत्ती और प्रसाद चढ़ाने पहुंचते है। इस मौके पर घरों में दाल बाटी चूरमा, लापसी बनाकर भोग लगाया जाता है। कुछ देवरों पर आने वाले समय में बरसात कैसी रहेगी और बीमारियों की स्थिति बताई जाएगी। लेकिन अभी तक कोरोना के बारे में किसी धर्म स्थल पर यह नहीं बताया जा सका कि इस कब काबू पा लिया जाएगा। लोग अपने-अपने ईष्ट देव से अपने और अपने परिवार की रक्षा कामना जरूर करेंगे।

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक