घी-तेल और मीठे से ही नहीं, स्टार्च के अधिक सेवन से भी हो सकती हैं दिल की बीमारियां

 


पास्ता, पिज्जा, बर्गर और फ्रेंच फ्राइज़ जैसे स्वादिष्ट स्नैक्स का नाम सुनते ही सभी के मुंह में पानी आ जाता है। लंच और डिनर के बीच लगने वाली हलकी भूख मिटाने के लिए अधिकतर लोग ऐसी ही चीज़ों का सहारा लेते हैं, पर इस मामले से सचेत रहना जरूरी है, क्योंकि आलू, मैदा या चावल के आटे से बने ऐसे स्नैक्स में स्टार्च की अधिकता होती है। जिसके लगातार सेवन से शरीर कई कई परेशानियों का शिकार होने लगता है।

अब तक घी-तेल और मीठे को ही दिल के लिए नुकसानदेह माना जाता था, लेकिन हाल ही में अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के एक जर्नल में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक स्टार्च के भी अधिक सेवन से व्यक्ति को दिल की बीमारियां हो सकती हैं। जो गौर करने वाली बात है। तो ऐसे लोग जो अक्सर ऐसे स्नैक्स का सेवन करते हैं, उनमें दिल की बीमारियों का खतरा 47-57 प्रतिशत तक बढ़ जाता है।

शोधकर्ताओं ने अमेरिका में लोगों की खानपान की आदतें को जानने के लिए नेशनल हेल्थ एंड न्यूट्रिशन एग्जामिनेशन सर्वे (एनएचएएनईएस) में शामिल 21, 503 प्रतिभागियों के रिकार्ड का विश्लेषण किया। उनका कहना था कि तुलनात्मक रूप से उन प्रतिभागियों में कार्डियो वैस्कुलर डिज़ीज़ की आशंका अधिक थी, जो स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करते थे, इसलिए उन्होंने लोगों को यह सलाह दी है कि दिल को स्वस्थ रखने के लिए वे मैदा, आलू, चावल, चीनी और रिफाइंड ऑयल जैसी चीज़ों से दूरी बनाए रखें। तभी आप लंबे समय तक हेल्दी और हैप्पी बने रहेंगे।

 डॉक्टर की राय

यह रिसर्च सही है। अगर अधिक मात्रा में स्टार्चयुक्त पदार्थों का सेवन किया जाए तो शरीर को फाइबर और एंटी-ऑक्सीडेंट्स का पोषण नही मिला पाता। इससे कोलेस्ट्रॉल-शुगर लेवल बढ़ जाता और ऐसी अवस्था को हृदय-रोग के लिए जिम्मेदार माना जाता है।

(नेहा पठानिया, न्यूट्रिशनिस्ट, पारस हॉस्पिटल, गुरुग्राम से बातचीत पर आधारित)

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक