बाल संस्कार"

 

नमन-मगसम पटल कोटा


डालो संस्कार बालकों में,
दो आगे बढ़ने की हर सुविधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

   आदिकाल गुरू कुल में बालक,
   विद्याध्ययन को आते थे/
   गुरू माई के आदेश से वे,
   जंगल से ईंधन लाते थे//

याचक नां बन स्वयं सिद्ध हों,
पराश्रिता देती है दुविधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

   ईशार्चन और पूजन सामग्री,
   बालक चुन कर लाते थे/
   उनकी योग्यतानुसार गुरू देव,
   सपने साकार कराते थे//

विदाई के क्षण गुरू दक्षिणा दें,
प्रस्थान में जाता गला रूंधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

 

Popular posts from this blog

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

झटके पे झटका ... कांग्रेस का जिले में बनेगा बोर्ड ?