बाल संस्कार"

 

नमन-मगसम पटल कोटा


डालो संस्कार बालकों में,
दो आगे बढ़ने की हर सुविधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

   आदिकाल गुरू कुल में बालक,
   विद्याध्ययन को आते थे/
   गुरू माई के आदेश से वे,
   जंगल से ईंधन लाते थे//

याचक नां बन स्वयं सिद्ध हों,
पराश्रिता देती है दुविधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

   ईशार्चन और पूजन सामग्री,
   बालक चुन कर लाते थे/
   उनकी योग्यतानुसार गुरू देव,
   सपने साकार कराते थे//

विदाई के क्षण गुरू दक्षिणा दें,
प्रस्थान में जाता गला रूंधा/
जीवन के हवन कुण्ड खातिर,
खुद एकत्रित कर लाए समिधा//

 

Popular posts from this blog

भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव : भाजपा ने 31, कांग्रेस ने 22 और निर्दलीय ने जीती 17 सीटें, बोर्ड के लिए जोड़ तोड़

सिपाहियों के कातिल जोधपुर और बाड़मेर के, एक फौजी भी शामिल !

वीडियो कोच ने स्कूटर को लिया चपेट में, दो बहनों की मौत, भाई घायल, बागौर में शोक