घट स्थापना के साथ ही शुरू हुआ मां अम्बे का नवरात्री महापर्व


सिंगोली-* नगर मे विगत 27 वर्षो से चली आ रही परंपरा को निभाते हुए नगर सिंगोली में सर्व प्रथम गरबा महोत्सव मनाने वाली समिति अर्जुन क्लब के तत्वाधान में आज बापू बाजार सिंगोली में शरदीय नवरात्रि पर्व के उपलक्ष्य में भव्य साज सज्जा डेकोरेशन कर पाण्डल में पूर्ण विधिविधान से माँ अंबे की घट स्थापना की गई। जिसमे अर्जुन क्लब के सतीश (पिंटू जी) अग्रवाल,भाजपा नगर उपाध्यक्ष हरीश शर्मा,पत्थर व्यवसायी राकेश मेहता,युवा मोर्चा नगर अध्यक्ष बाबू गुर्जर, पप्पू ठाकुर,जितेंद्र हाड़ा, मनीष तिवारी, महेंद्र सोनी,(सिंघम)श्याम लहरी,संजय शर्मा एवं अग्रवाल परिवार की महिलाओ ने माँ जगदंबा की पूजा अर्चना करते हुए स्थापना की। अर्जुन क्लब के पिंटू अग्रवाल ने नगर की महिला पुरुष युवा वर्ग बच्चो आदि से आह्वान करते हुए बताया कि 9 दिवसीय माँ ‘अब्बे के दरबार मे 10 बजे तक गरबा नृत्य किया जाएगा जिसमे शासन की गाइड लाइन का पालन करते हुए पधार कर नवरात्रि पर्व मनाते हुए धर्म लाभ ले।
एवं दशहरे के दिन कन्या भोज का आयोजन कर अर्जुन क्लब द्वारा सभी प्रतिभगियों को परितोषित प्रदान किया जाएगा। समस्त नगर एवं क्षैत्र वासियो पर माता रानी की कृपा बनी रहे ऐसी कामना आयोजक मंडल ने की। गत वर्ष कोरोना काल के चलते नवरात्री मे गरबो के आयोजन नही हो पाए थे परन्तु इस वर्ष शासन की ओर से नई गाइड लाइन के अनुसार गरबो एवं दशहरे पर्व को मनाने के लिए आंशिक छुट दी गई जिसके कारण आयोजन समिति के लोगो मे जबरदस्त उत्साह बना हुआ है।
ओर उसी के अनुसार आज नगर के वार्ड क्रमांक 2 एवं वार्ड क्रमांक 4 मे भी भक्तगणो द्वारा माता रानी की घट स्थापना की गई सभी आयोजको ने शासन की गाइड लाइन के अनुसार प्रतिदिन रात दस बजे तक नवरात्री महोत्सव मनाने की बात कही।

टिप्पणियाँ

समाज की हलचल

घर की छत पर किस दिशा में लगाएं ध्वज, कैसा होना चाहिए इसका रंग, किन बातों का रखें ध्यान?

समुद्र शास्त्र: शंखिनी, पद्मिनी सहित इन 5 प्रकार की होती हैं स्त्रियां, जानिए इनमें से कौन होती है भाग्यशाली

सुवालका कलाल जाति को ओबीसी वर्ग में शामिल करने की मांग

25 किलो काजू बादाम पिस्ते अंजीर  अखरोट  किशमिश से भगवान भोलेनाथ  का किया श्रृगार

मैत्री भाव जगत में सब जीवों से नित्य रहे- विद्यासागर महाराज

महिला से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में एक आरोपित गिरफ्तार

घर-घर में पूजी दियाड़ी, सहाड़ा के शक्तिपीठों पर विशेष पूजा अर्चना